छत्ता सिंह  

छत्ता सिंह

छत्ता सिंह (अंग्रेज़ी: Chatta Singh, जन्म- 1886, कानपुर, उत्तर प्रदेश; मृत्यु- 28 मार्च, 1961) प्रथम विश्व युद्ध के दौरान भारतीय थल सेना की 9वीं भोपाल इनफैंट्री में सिपाही थे। 13 जनवरी, 1916 को मेसोपोटामिया (आज के इराक) में वादी की लड़ाई में दिखाई गई उनकी अद्भुत वीरता के लिए उन्हें "विक्टोरिया क्रॉस" से सम्मानित किया गया था।[1]

  • अपने कमांडिंग ऑफिसर को बचाने के लिए, जो खुले में घायल पड़े थे, छत्ता सिंह बाहर निकल गए। उन्होंने उनके घाव का उपचार किया और पांच घंटे तक, जब तक कि उनके लिए चलना सुरक्षित न हो गया, उनके साथ रहे और इस दौरान भारी गोली-बारी होती रही।
  • सिपाही छत्ता सिंह ने ऑफिसर के घाव पर पट्टी बांधी और फिर उनकी सुरक्षा के लिए अपने खाई खोदने वाले औजार से उनके लिए सुरक्षा गड्ढा खोदा और इस संपूर्ण कार्य के दौरान राइफलों से हो रही भारी गोली-बारी के बीच जानलेवा असुरक्षा का सामना करते रहे।
  • रात होने तक, पांच घंटे वह अपने घायल अधिकारी के पास बने रहे और खुले हिस्से की ओर से उन्हें अपने शरीर की आड़ देकर बचाते रहे।
  • फिर, रात के अंधेरे के आवरण में वह वापस जाकर मदद लेकर आए और अपने ऑफिसर को सुरक्षित ले गए।
  • छत्ता सिंह ने बाद में हवलदार (सार्जेंट पद के समकक्ष) का ओहदा हासिल किया।
  • 28 मार्च, 1961 में कानपुर के तिलसरा में उनकी मृत्यु हो गई।
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. प्रथम विश्व युद्ध में विक्टोरिया क्रॉस से सम्मानित भारतीय चत्ता सिंह (हिंदी) gov.uk। अभिगमन तिथि: 17 मई, 2020।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=छत्ता_सिंह&oldid=646586" से लिया गया
<