चीफ़ ऑफ़ डिफ़ेंस स्टाफ़  

चीफ़ ऑफ़ डिफ़ेंस स्टाफ़ अथवा 'सीडीएस' (अंग्रेज़ी: Chief of the Defence Staff or CDS) सैन्य सलाहकार की भूमिका में देश के प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री को देश के लिए महत्वपूर्ण रक्षा और रणनीतिक मुद्दों से अवगत कराएगा। थल सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत को भारत का प्रथम चीफ़ ऑफ़ डिफ़ेंस स्टाफ़ (सीडीएस) नियुक्त किया गया है। जनरल रावत का कार्यकाल 31 दिसंबर, 2019 से प्रारम्भ होगा, जो कि अगले आदेश आने तक जारी रहेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त, 2019 को सीडीएस के पद का ऐलान किया था। इस पद के लिए अधिकतम आयु सीमा 65 साल है। जनरल रावत बतौर सीडीएस रक्षा मंत्रालय और तीनों सेनाओं के बीच समन्वयक की भूमिका निभाएंगे। उनका ओहदा 4 स्टार जनरल का होगा।

इतिहास

भारत में यह पहली बार नहीं है कि चीफ़ ऑफ़ डिफ़ेंस स्टाफ़ (सीडीएस) का पद सृजित हो रहा है। वर्ष 1999 के कारगिल युद्ध के बाद भी भारत में एक चीफ़ ऑफ़ डिफ़ेंस स्टाफ़ के पद को बनाने की पहल के. सुब्रह्मण्यम समिति की सिफारिश के आधार पर की गयी थी, लेकिन राजनीतिक असहमति और आशंकाओं के कारण यह आगे नहीं बढ़ सकी थी। नरेश चंद्र समिति ने 2012 में चीफ्स ऑफ स्टाफ कमेटी के एक स्थायी चेयरमैन की नियुक्ति की सिफारिश की थी।[1]

नियमों में बदलाव

चीफ़ ऑफ़ डिफ़ेंस स्टाफ़ पद के ऐलान के बाद भारत सरकार ने इसकी अधिकतम उम्र सीमा के लिए सेना के नियमों में संशोधन किया। नए नियम के तहत अधिकतम उम्र सीमा 65 साल होगी। इसकी अधिसूचना रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी की गई थी। रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार सैन्य नियमावली, 1954 में बदलाव किए गए।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारत में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) कौन होता है? (हिंदी) jagranjosh। अभिगमन तिथि: 31 दिसम्बर, 2019।
  2. जनरल बिपिन रावत देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (हिंदी) bhaskar। अभिगमन तिथि: 31 दिसम्बर, 2019।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=चीफ़_ऑफ़_डिफ़ेंस_स्टाफ़&oldid=638139" से लिया गया
<