हाइड्रोकार्बन  

हाइड्रोकार्बन (अंग्रेज़ी: Hydrocarbon) हाइड्रोजनकार्बन से बने यौगिक होते हैं। कार्बन परमाणुओं में स्वयं से बंधन करने का विलक्षण गुण पाया जाता है, जिसे 'शृँखलन'[1] कहते हैं। इस गुण के कारण यह असंख्य हाइड्रोकॉर्बन के निर्माण में सक्षम है।

  • इसका मुख्य स्रोत जीवधारी व पेट्रोलियम हैं।
  • हाइड्रोकार्बन प्रत्यक्ष रूप से कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, न्यूक्लिक अम्ल इत्यादि के रूप में जीवन के आधार हैं।
  • अधिकतर औषधियाँ, कृषि रसायन, ईंधन तथा प्लास्टिक भी हाइड्रोजनकार्बन से बने यौगिक होते हैं।[2]
  • हाइड्रोकार्बन को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है-
  1. संतृप्त हाइड्रोकार्बन - ऐसे हाइड्रोकार्बन, जिनके परमाणु परस्पर केवल एक आबंध[3] द्वारा जुड़े होते हैं, जैसे- ब्यूटेन (CH3-CH2-CH2-CH3)
  2. असंतृप्त हाइड्रोकार्बन - ऐसे हाइड्रोकार्बन, जो बहु-आबंध[4] से जुड़े होते हैं, जैसे- बेंजीन (C6H6)


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. catenation
  2. ऑक्सीकरण तथा अपचयन (हिन्दी) जागरण जोश। अभिगमन तिथि: 14 दिसम्बर, 2014।
  3. Single Bond
  4. Multiple Bond

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हाइड्रोकार्बन&oldid=513638" से लिया गया