अकेलास ठोस  

अकेलास ठोस (एमोर्फस सॉलिड) उन पदार्थों को कहते हैं, जो गरम करने पर क्रमश: नरम हो जाते हैं और फिर धीरे-धीरे उनकी श्यानता[1] इतनी कम हो जाती है कि वे चल्य बनकर द्रव में परिवर्तित हो जाते हैं।[2]

  • इन पदार्थों का कोई निश्चित गलनांक नहीं होता है।
  • इस तरह के पदार्थ ठीक-ठीक ठोस की परिभाषा के अंतर्गत नहीं आते। इसलिए इनको अत्यधिक श्यानता वाले अतिशीतलित[3] द्रव भी कहा जाता है।
  • काँच, मोम, वसा, अलकतरा[4] आदि अकेलास ठोस में से हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विस्कोसिटी
  2. अकेलास ठोस (हिन्दी) भारतखोज। अभिगमन तिथि: 14 सितम्बर, 2014।
  3. सुपरकूल्ड
  4. डामर

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अकेलास_ठोस&oldid=609636" से लिया गया