थैलियम  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
थैलियम

थैलियम आवर्त सारणी के तृतीय मुख्य समूह का अंतिम तत्व है। थैलियम के दो स्थिर समस्थानिक प्राप्त हैं, जिनकी द्रव्यमान संख्याएँ 203 एवं 205 हैं। इसके अतिरिक्त इसके नौ अस्थिर समस्थानिक ज्ञात हैं। इनकी द्रव्यमान संख्याएँ 199, 200, 202, 204, 206, 207, 208, 209 और 210 हैं। इनमें कुछ रेडियधर्मी अयस्कों में मिलते हैं और कुछ कृत्रिम साधनों द्वारा उपलब्ध हैं। इस तत्व की खोज अंग्रेज वैज्ञानिक विलियम क्रुक्स ने 1861 ई. में एक विशेष सेलेनियम युक्त पायराइट में वर्णक्रममापी उपकरण द्वारा की थी। उन्होंने भूर्जित अयस्क की धूल के वर्णक्रममापी निरीक्षण में एक हल्के हरे रंग की रेखा देखी, जिसके कारण इस तत्व का नाम थैलियम रखा। इस तत्व को लैमी ने सर्वप्रथम पृथक्‌ कर इसके गुण धर्म का निरीक्षण किया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=थैलियम&oldid=184312" से लिया गया