निकिल  

निकिल
चाँदी पर सोने की आभा लिए धातु
साधारण गुणधर्म
नाम, प्रतीक, संख्या निकिल, Ni, 28
तत्व श्रेणी संक्रमण धातु
समूह, आवर्त, कक्षा 10, 4, d
मानक परमाणु भार 58.6934(4)g·mol−1
इलेक्ट्रॉन विन्यास 1s2 2s2 2p6 3s2 3p6 4s2 3d8
इलेक्ट्रॉन प्रति शेल 2, 8, 16, 2 or 2, 8, 17, 1
भौतिक गुणधर्म
अवस्था ठोस
घनत्व (निकट क.ता.) 8.908 g·cm−3
तरल घनत्व
(गलनांक पर)
7.81 g·cm−3
गलनांक 1728 K, 1455 °C, 2651 °F
क्वथनांक 3186 K, 2913 °C, 5275 °F
संलयन ऊष्मा 17.48 किलो जूल-मोल
वाष्पन ऊष्मा 377.5 किलो जूल-मोल
विशिष्ट ऊष्मीय
क्षमता
26.07

जूल-मोल−1किलो−1

वाष्प दाब
P (Pa) 1 10 100 1 k 10 k 100 k
at T (K) 1783 1950 2154 2410 2741 3184
परमाण्विक गुणधर्म
ऑक्सीकरण अवस्था 4, 3, 2, 1, -1
इलेक्ट्रोनेगेटिविटी 1.91 (पाइलिंग पैमाना)
आयनीकरण ऊर्जाएँ
(अधिक)
1st: 737.1 कि.जूल•मोल−1
2nd: 1753.0 कि.जूल•मोल−1
3rd: 3395 कि.जूल•मोल−1
परमाण्विक त्रिज्या 124 pm
सहसंयोजक त्रिज्या 124±4 pm
वैन्डैर वाल्स त्रिज्या 163 pm
विविध गुणधर्म
क्रिस्टल संरचना केन्द्रीय मुख घनाकार
चुम्बकीय क्रम लोहचुम्बकीय
वैद्युत प्रतिरोधकता (20 °C) 69.3 nΩ·m
ऊष्मीय चालकता (300 K) 90.9 W·m−1·K−1
ऊष्मीय प्रसार (25 °C) 13.4 µm·m−1·K−1
ध्वनि चाल (पतली छड़ में) (r.t.) 4900 m·s−1
यंग मापांक 200 GPa
अपरूपण मापांक 76 GPa
स्थूल मापांक 180 GPa
पॉयज़न अनुपात 0.31
मोह्स कठोरता मापांक 4.0
विकर्स कठोरता 638 MPa
ब्राइनल कठोरता 700 MPa
सी.ए.एस पंजीकरण
संख्या
7440-02-0
समस्थानिक
समस्थानिक प्रा. प्रचुरता अर्द्ध आयु क्षरण अवस्था क्षरण ऊर्जा
(MeV)
क्षरण उत्पाद
58Ni 68.077% 58Ni 30 न्यूट्रॉन के साथ स्थिर
59Ni trace 76000 y ε - 59Co
60Ni 26.223% 60Ni 32 न्यूट्रॉन के साथ स्थिर
61Ni 1.14% 61Ni 33 न्यूट्रॉन के साथ स्थिर
62Ni 3.634% 62Ni 34 न्यूट्रॉन के साथ स्थिर
63Ni syn 100.1 y β 0.0669 63Cu
64Ni 0.926% 64Ni 36 न्यूट्रॉन के साथ स्थिर

निकिल (अंग्रेज़ी: Nickel) आवर्त सारणी के अष्टसमूह का तत्त्व है। निकिल के पाँच स्थायी समस्थानिक ज्ञात हैं, जिनकी द्रव्यमान संख्याएँ 58, 60, 61, 62 और 64 हैं। निकिल तत्त्व के पाँच अस्थायी समस्थानिक भी बनाए गए हैं, जिनकी द्रव्यमान संख्याएँ 57, 58, 62, 65 और 66 हैं।

प्राप्ति

मिश्रधातु के रूप में निकिल का उपयोग पुरातन काल से होता आया है। नालंदा की धातु मूर्तियों में न्यून मात्रा में निकिल उपस्थित है। चीन में निकिल की मिश्रधातुओं का उपयोग श्वेत ताम्र बनाने में होता था। सर्वप्रथम अशुद्ध निकिल धातु का निर्माण क्रोन्सटेड ने 1750 ई. में किया था।

पृथ्वी की सतह पर निकिल समुचित मात्रा में वर्तमान है और इसका परिमाण ताम्र, यशद या राँगे से अधिक है। परंतु इसके ऐसे सांद्र अयस्क बहुत कम है, जिनसे धातु निकाली जा सके। निकिल का विश्व में सबसे समृद्ध अयस्क कैनाडा के सडबरी ज़िले में पाया गया है। यह लोहा और निकिल की मिश्रित सल्फाइड है। न्यूकैलिडोनिया, सोवियत संघ तथा क्यूबा में भी समुचित मात्रा में निकिल अयस्क से धातु निकाली जाती है। भारत, चीन, नॉर्वे, अमेरिका का अलास्का प्रदेश, वेनेज़ुएला, ब्राज़ील, मिस्र और यूनान में अल्प मात्रा में निकिल अयस्क प्राप्य हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. A
  2. nikel dimethyl glyoxime
  3. जैसे वनस्पति उद्योग में
और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=निकिल&oldid=528309" से लिया गया