दिशाकाक  

नाव पर बैठा कौआ
  • पुराने समय में जब नाविक समुद्री यात्राओं पर जाते थे तो अपने साथ काक (कौए) लेकर जाते थे।
  • दिशा काक समुद्र यात्रा के समय किनारे का पता लगाने के लिए छोड़ा जाता था।
  • बीच समुद्र में कौए छोड़कर पास में भूमि के होने का पता लगाया जाता था।
  • यदि काक वापस जहाज़ पर लौटकर आ जाता था तो यह समझ लिया जाता था कि पास में भूमि नहीं है। इसी से सम्भवत: यह कहावत बनी - जैसे उरि जहाज़ को पंछी फिर जहाज़ को आवे'[1]
  • कौए के ना लौटकर आने की स्थिति में नाव या जहाज़ को उसी दिशा में ले जाते थे, जिधर कौआ गया था।
  • प्राचीन समय में वाराणसी से गंगा नदी के द्वारा सुदूर तक वाणिज्य व्यापार किया जाता था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मेरो मन अनत कहाँ सुख पावे... जैसे उरि जहाज़ को पंछी फिर जहाज़ को आवे....सूरदास

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=दिशाकाक&oldid=321982" से लिया गया