टेनिस  

टेनिस कोर्ट

टेनिस का मूल नाम लॉन टेनिस होता है, एक आयताकार कोर्ट पर खेला जाने वाला खेल, जिसमें दो (एकल) या चार (युगल) खिलाड़ी जाली वाले रैकेटों से एक गेंद को मैदान के बीच में लगे जाल या नेट के ऊपर से आर-पार फेंकते हैं। इसमें उद्देश्य गेंद को इस तरह मारना होता है कि प्रतिद्वंदी गेंद तक न पहुँच पाये या वह उसे सही ढंग से ना लौटा पाए।

परिचय

टेनिस कोर्ट का माप एकल खेलों के लिए 23.77 X 8.23 मीटर और युगल के लिए 23.77 X 10.97 मीटर होता है। मध्य में नेट की ऊँचाई तीन फ़ीट होती है और यह दोनों तरफ़ कोर्ट से तीन फ़ीट बाहर गड़े साढ़े तीन फ़ीट ऊँचे खंभों पर बधाँ रहता है। टेनिस को मूलत: घास के कोर्ट के कारण 'लॉन टेनिस' कहा जाता था, जो अभी भी प्रचलन में है, लेकिन सबसे आम कोर्ट सामग्रियाँ मिट्टी [1], सीमेंट और कई गद्देदार डामरीकृत संजात और कृत्रिम सतहें हैं। टेनिस की गेंद दाबानुकूलित रबर क्रोड की बनी होती है, जिस पर उच्च गुणवत्ता वाला कपड़ा चढ़ा रहता है और इसका व्यास लगभग 68 मिमी और वज़न 56.7 ग्राम होता है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. क्ले, ज्यादातर जगहों पर हार्ड कोर्ट कहलाते हैं, यद्यपि अमेरिका में इस शब्द से आशय किसी भी सख़्त सतह से है
  2. जिनमें ग्रेट ब्रिटेन का रियल टेनिस, ऑस्ट्रेलिया का रॉयल टेनिस और संयुक्त राज्य का कोर्ट टेनिस शामिल हैं, सभी एक ही खेल हैं और चारदीवारी के भीतर खेले जाते हैं
  3. हथेलियों का खेल
  4. 1913 में स्थापित
  5. 1900 में शुरु
  6. 1963 में शुरु
  7. 1923
और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=टेनिस&oldid=502427" से लिया गया