जेम्स प्रिंसेप  

जेम्स प्रिंसेप

जेम्स प्रिंसेप (अंग्रेज़ी: James Prinsep, जन्म- 20 अगस्त, 1799; मृत्यु- 22 अप्रॅल, 1840) ब्राह्मी लिपि भाषाविद् एवं सम्राट अशोक के शिलालेखों को पढ़ने वाले प्रथम अंग्रेज़ व्यक्ति थे।

परिचय

जेम्स प्रिंसेप ईस्ट इण्डिया कम्पनी में एक अधिकारी के पद पर नियुक्त थे। उन्होंने 1837 ई. में सर्वप्रथम ब्राह्मी और खरोष्ठी लिपियों को पढ़ने में सफलता प्राप्त की। इन लिपियों का उपयोग सबसे आरम्भिक अभिलेखों और सिक्कों में किया गया है। प्रिंसेप को यह जानकारी प्राप्त हुई कि अभिलेखों और सिक्कों पर 'पियदस्सी' अर्थात् 'सुन्दर मुखाकृति' वाले राजा का नाम लिखा है। कुछ अभिलेखों पर राजा का नाम सम्राट अशोक भी लिखा था। नैनिमेटिक्स, धातु विज्ञान, मौसम विज्ञान के कई पहलुओं का अध्ययन, दस्तावेज और सचित्र कार्य जेम्स प्रिंसेप ने किया, बंटारे में टकसाल में एक परख मास्टर के रूप में भारत में काम भी किया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 पत्तियों में बदल गया बनारस को बसाने वाला यह अधिकारी (हिंदी) patrika.com। अभिगमन तिथि: 29 फरवरी, 2020।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जेम्स_प्रिंसेप&oldid=641834" से लिया गया