सारिंदा  

सारिंदा भारत का एक लोक तार वाद्य है। इसे प्राय: निम्न जातियों द्वारा बजाया जाता है। 'सारिंदा' सारंगी वाद्य यंत्र का प्राचीन नाम है, जो कालांतर के साथ 'सारंगी' हो गया।

  • मध्य एशिया मूल का सारिंदा विभिन्न आकारों का होता है।
  • इसकी बनावट अक्सर थैली या थैले से मिलती-जुलती है।
  • यह बिना पर्देदार छोटी गर्दन वाला लकड़ी से बना बाद्य है।
  • सारिंदा में एक पेटी में आड़ी लगी खूंटियाँ तथा घोड़े के बाल या तांत के तीन तार होते हैं।
  • उत्तर भारत के लोकप्रिय रूपान्तर, सारंगी में आमतौर पर धातु का बना चौथा तार होता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सारिंदा&oldid=234612" से लिया गया