नफ़ीरी  

नफ़ीरी एक फूँक वाद्य यंत्र है जिसे सहनाई या सुन्दरी भी कहते है।

  • इसका शुद्ध नाम शहनाई है।
  • यह एक हाथ लम्बी लाल चन्दन की लकड़ी की बनी होती है जिसमें आठ छेद होते है।
  • नफ़ीरी का मुख चार अँगुल लम्बा होता है जिसमें हाथी-दाँत के पत्ते लगे होते हैं।
  • इन्हें मुख में दबाकर फूँक के माध्यम से मधुर स्वर बजाये जाते है, इसलिए इसे सुनादी भी कहते है।
  • दक्षिण में इसके अनेक आकार-प्रकार मिलते हैं।
  • वहाँ शहनाई के कुछ लम्बे रूप को नागस्वरम् के नाम से जाना जाता है।
  • लोक जीवन में सभी मांगलिक पर्व 'नफ़ीरी' या शहनाई से आरम्भ होते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नफ़ीरी&oldid=298367" से लिया गया