नड़  

नड़ मशक के समान दिखाई देने वाला एक वाद्य है, जो फूँक मारकर बजाया जाता है। देवी या भैरव का गुणगान करने के लिए राजस्थान के भोपे लोग इस वाद्य का प्रयोग करते हैं।

  • उत्तर भारत में इसे 'भोपे का बीन' पुकारा जाता है।
  • मुँह की फूँक द्वारा मशक में पहले पूरी हवा भर ली जाती है, फिर बाँसुरी की तरह उसमें लगी हुई नली के तीन छिद्रों पर अँगुली के संचालन से स्वर पैदा किए जाते है।
  • नड़ वाद्य में एक बार भरी हुई हवा काफ़ी देर तक काम देती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नड़&oldid=298547" से लिया गया