हारमोनियम  

हारमोनियम
Harmonium

हारमोनियम (अंग्रेज़ी:Harmonium) पेटी या रीड ऑर्गन भी कहलाता है। हारमोनियम मुक्त पत्ती वाला कुंजी-फलक वाद्य है, जो हाथ या पैर से संचालित धौंकनी के द्वारा दबाव-समकारी वायु भंडार से हवा फेंकता है, जो धातु के खांचों में कसी गई धातु-पत्तियों को कंपन देती है और वाद्य बजता है। हारमोनियम में कोई नलिका नहीं होती है और स्वर पत्ती के आकार पर निर्भर करता है। पत्तियों के अलग-अलग समूह भिन्न सुर देते हैं, ध्वनि की गुणवत्ता समूह की प्रत्येक पत्ती के चारों ओर वाले सुर-कक्ष के विशिष्ट आकार एवं आकृति पर निर्भर करती है; उदाहरणस्वरूप, संकुचित कक्ष शक्तिशाली कंपन एवं तीक्ष्म सुर निकालते हैं। सुर की प्रबलता घुटने से संचालित वायु कपाट या सीधे धौंकनी पैडल को रोककर, नियंत्रैत की जाती है, ताकि हवा आधार के बाहर से गुज़रे। वाद्य का विस्तार सामान्यतः चार या पाँच सप्तक होता है।

इतिहास

हारमोनियम समूह का सबसे पहला बाजा फ़िसहार्मोनिका था, जिसका निर्माण 1818 में वियना में एंटन हिक्ल ने किया था। इसे चीन के माउथ ऑर्गन या शेंग से प्रेरणा मिली, जिसे 1970 के दशक में रूस लाया गया था, जिसने यूरोप को मुक्त पत्ती से परिचित कराया और कुछ भौतिकशास्त्रियों एवं संगीतज्ञों में रुचि जगाई। अब विलुप्त अन्य क़िस्में (जैसे जॉन ग्रीन का सेराफ़ीइन), 1840 में पेरिस में अलेक्ज़ांद्रे दिबेन द्वारा निर्मित हारमोनियम से पहले अस्तित्व में थीं। 1850 के बाद मुख्य सुधार पेरिस में विक्टर मस्तेल तथा अमेरिका में जेकब एस्टे ने किया।

हारमोनियम लोकप्रिय गिरिजाघर एवं घरेलू वाद्य यंत्र रहा, जब तक कि 1930 के दशक के बाद इलैक्ट्रॉनिक बाजे ने उसे बाज़ार से बाहर नहीं कर दिया। इस वाद्य यंत्र के लिए संगीत रचनाएँ तथा बोहेमियाई संगीतज्ञ एंतोनियन द्वोरज़ाक की दो वॉयलिन, चेलो एवं हारमोनियम के लिए चतुर्वाद्य-रचना शामिल हैं।  

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हारमोनियम&oldid=544327" से लिया गया