धनिया  

धनिया (अंग्रेजी: Coriander) आमतौर पर सब्ज़ियों में इस्तेमाल किया जाता है। इसका वानस्पतिक नाम "कोरिएनड्रम सटिवुम" (Coriandrum sativum) है। पाँच हज़ार साल पहले ही हरे धनिए का उपयोग हमारे खान-पान में किया जाने लगा था। एक यूरोपीय राजा ने इसे उपयोगी जानकर इसके महत्व को पहचाना और इसकी खेती करने पर ज़ोर दिया। धनिया मध्य एशिया, भारत, दक्षिण एशिया, मैक्सिकन, टेक्सस, लैटिन अमेरिका, चीन, अफ्रीका, दक्षिण पूर्व एशिया, फ्राँस और स्कैंडिनेवियाई देशों में भोजन में इसका उपयोग बड़े ही सम्मान के साथ किया जाता है।

धनिए का उपयोग

कुछ जाति के लोग हरा धनिया खाने के बहुत शौकीन थे। वे इसके बिना कुछ भी नहीं बना पाते थे। अठारहवीं सदी में धनिए के बीजों का उपयोग माउथफ्रेशनर बनाने के लिए किया गया। साथ ही माँसाहारी, शाकाहारी, नमकीन, सूप आदि में भी हरे धनिए का उपयोग किया जाने लगा। कुछ लोग तो केवल सजावट के तौर पर कभी-कभी इसका उपयोग करते हैं, लेकिन अधिकतर घरों में तो रोजाना हरे धनिया का इस्तेमाल होता है। धनिये के सभी भाग खाद्य साम्रगी के लिए उपयुक्त रहे हैं, लेकिन ताज़ा धनिये के पत्ते और सूखे बीजों का सबसे अधिक खाना पकाने में इस्तेमाल किया जाता है। धनिया भारतीय रसोई में प्रयोग किए जाने वाली सुंगंधित हरी पत्तीयाँ हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हरा धनिया (हिन्दी) (एच. टी. एम) वेबदुनिया। अभिगमन तिथि: 22 अगस्त, 2011।
  2. ताजा हरा धनिया (हिन्दी) (एच. टी. एम) वेबदुनिया हिन्दी। अभिगमन तिथि: 22 अगस्त, 2011।

बाहरी कड़ियाँ

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=धनिया&oldid=498659" से लिया गया