टेस्सी थॉमस  

टेस्सी थॉमस
टेस्सी थॉमस
पूरा नाम डॉ. टेस्सी थॉमस
अन्य नाम अग्निपुत्री, भारत की मिसाइल वूमन
जन्म अप्रैल, 1964
जन्म भूमि केरल
पति/पत्नी सरोज कुमार
संतान पुत्र- तेजस
कर्म भूमि भारत
शिक्षा बी. टेक., एम. टेक.
विद्यालय त्रिचुर इन्जीनरिंग कॉलेज, कालीकट; डिफेन्स इंस्टिट्यूट ऑफ़ एडवांस टेक्नोलॉजी, पुणे
पुरस्कार-उपाधि 'लाल बहादुर शास्त्री नेशनल अवार्ड' (2012), 'कल्पना चावला पुरस्कार', 'सुमन शर्मा पुरस्कार', 'इंडिया टुडे वुमन ऑफ़ द ईयर का ख़िताब' 2009
प्रसिद्धि मिसाइल वैज्ञानिक
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख ए पी जे अब्दुल कलाम, अग्नि प्रक्षेपास्त्र, ब्रह्मोस मिसाइल
अन्य जानकारी 2013 में भुवनेश्वर में आयोजित 'भारतीय विज्ञान कांग्रेस' के अधिवेशन को संबोधित करते हुए तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने टेस्सी थॉमस को "भारत की वैज्ञानिक रत्न" की संज्ञा देते हुए देश की महिलाओं को विज्ञान के क्षेत्र में आकर काम करने का आह्वान किया था।

टेस्सी थॉमस (अंग्रेज़ी: Tessy Thomas, जन्म- अप्रैल, 1964, केरल) भारत की प्रसिद्ध महिला वैज्ञानिक हैं। उन्हें 'भारत की अग्निपुत्री' और 'मिसाइल वुमन ऑफ़ इण्डिया' कहा जाता है। उन्होंने अपना अब तक का सारा जीवन भारत की अग्नि मिसाइल के अनेक उन्नत एवं परिष्कृत संस्करणों के लिए अनुसन्धान करके फिर उन्हें विकसित करने में ही बिता दिया है। भारत की 3500 कि.मी. तक मार करने वाली अग्नि-4 मिसाइल के सफल परीक्षण के बाद से ही रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की महिला वैज्ञानिक डॉ. टेस्सी थॉमस को 'अग्निपुत्री' के नाम से ही सम्बोधित किया जाने लगा था।

परिचय

डॉ. टेस्सी थॉमस का जन्म अप्रैल, 1964 में केरल के एक कैथोलिक परिवार में हुआ था। इनका नाम शांति की दूत नोबेल पुरस्कार विजेता मदर टेरेसा के नाम पर रखा गया। टेस्सी थॉमस जब स्कूल में पढ़ा करती थीं, उन दिनों 'नासा' का अपोलो यान चाँद पर उतरने वाला था। इन्हें रोज़ाना उस यान के बारे में सुनकर प्रेरणा मिल रही थी कि ये भी एक दिन ऐसा एक रॉकेट बनायें, जो इसी तरह आसमान की ऊंचाई को छू सके। टेस्सी थॉमस का ये उन दिनों एक सपना था। अग्नि-5 की सफलता से टेस्सी थॉमस की मेहनत, लगन और प्रतिभा का ही सपना पूरा नहीं हुआ है, बल्कि एक वह सपना भी पूरा हुआ है, जो इस देश को स्वदेशी रॉकेट और मिसाइल तकनीक से वैज्ञानिक और सामरिक रूप से अपने पैरों पर खड़ा देखने के लिए बरसों पहले भारत के शीर्ष वैज्ञानिकों विक्रम साराभाई और सतीश धवन ने देखा था।

शिक्षा

टेस्सी थॉमस ने त्रिचुर इन्जीनरिंग कॉलेज, कालीकट (केरल) से बी. टेक. किया और इसके बाद एम. टेक. के लिए पुणे स्थित 'डिफेन्स इंस्टिट्यूट ऑफ़ एडवांस टेक्नोलॉजी' की प्रवेश परीक्षा पास की। वे ये परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले तीन छात्रों में से एक थीं और पहली महिला भी। उनकी इसी प्रतिभा के कारण उन्हें 'गाइडेड मिसाइल एंड वेपन टेक्नोलॉजी' के विशेष कोर्स के लिए चुना गया। 1985 में राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा में प्रथम आकर टेस्सी थॉमस ने 21 वर्ष की आयु में ही देश के 'रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन' में कदम रखा और इस क्षेत्र में पुरुषों के प्रभुत्व को भी तोड़ा।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. Inter-Continental Ballistic Missile System – ICBM
  2. No , Not At All. Science Has No Gender

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=टेस्सी_थॉमस&oldid=622338" से लिया गया