हेमचंद दासगुप्त  

हेमचंद दासगुप्त
हेमचंद दासगुप्त
पूरा नाम हेमचंद दासगुप्त
जन्म 1878 ई.
जन्म भूमि दीनाजपुर, बंगाल
मृत्यु 1 जनवरी, 1933 ई.
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र भू-वैज्ञानिक
शिक्षा एम. ए. (ऑनर्स)
विद्यालय 'कलकत्ता प्रेसीडेंसी कॉलेज'
विशेष योगदान हेमचंद दासगुप्त ने 'भारतीय विज्ञान कांग्रेस' के विकास में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया था। आप उसकी कार्यकारिणी के सदस्य भी थे
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी जमशेदपुर में 'टाटा इस्पात कम्पनी' स्थापित करने में इनका प्रमुख हाथ था। इन्हीं की सम्मति से यह कम्पनी जमशेदपुर में स्थापित हुई थी।

हेमचंद दासगुप्त (जन्म- 1878 ई., दीनाजपुर, बंगाल; मृत्यु- 1 जनवरी, 1933) प्रसिद्ध भू-विज्ञानी थे। 'भारतीय विज्ञान कांग्रेस' के विकास में आपने महत्त्वपूर्ण योगदान दिया था। 'जियालॉजिकल माइनिंग एण्ड मेटालरजिकल सोसाइटी ऑफ़ इंडिया' के संस्थापकों में से हेमचंद दासगुप्ता भी एक थे।

जन्म तथा शिक्षा

हेमचंद दासगुप्त का जन्म सन 1878 ई. में बंगाल के दीनाजपुर ज़िले में हुआ था। ज़िला स्कूल से प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करके के उपरांत 1895 ई. में इन्होंने 'कलकत्ता प्रेसीडेंसी कॉलेज' में प्रवेश लिया। यहाँ सन 1900 में आपने एम. ए. (ऑनर्स) की डिग्री प्राप्त की। तीन वर्ष पश्चात् इनकी नियुक्ति इसी विद्यालय में डिमोंस्ट्रेटर के पद पर हुई। धीरे-धीरे उन्नति करते हुए हेमचंद दासगुप्त इसी विद्यालय में भू-विज्ञान के प्रोफेसर हो गए।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 हेमचंद दासगुप्त (हिन्दी) भारतखोज। अभिगमन तिथि: 20 जून, 2015।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हेमचंद_दासगुप्त&oldid=611839" से लिया गया