सत्येंद्रनाथ बोस  

Disamb2.jpg सत्येंद्रनाथ बोस एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- सत्येंद्रनाथ बोस (बहुविकल्पी)
सत्येंद्रनाथ बोस
Satyendra-Nath-Bose.jpg
पूरा नाम सत्येंद्र नाथ बोस
अन्य नाम सत्येन, एस. एन. बोस
जन्म 1 जनवरी, 1894
जन्म भूमि कोलकाता, भारत
मृत्यु 4 फ़रवरी, 1974
अभिभावक सुरेन्द्र नाथ बोस
कर्म भूमि कोलकाता, भारत
कर्म-क्षेत्र वैज्ञानिक, अध्यापक
विषय भौतिकी, गणित, बौद्ध साहित्य
भाषा फ़्राँसीसी, जर्मन, बांग्ला
शिक्षा बी. एस. सी, एम.एस. सी
विद्यालय हिन्दू हाईस्कूल, प्रेसिडेंसी कॉलेज
प्रसिद्धि गणितज्ञ और भौतिक शास्त्री
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी सत्येन्द्र नाथ बोस 'ललित कला' और संगीत प्रेमी थे। वे यसराज और बांसुरी बजाया करते थे, किंतु इसराज बजाने में वे बहुत निपुण थे।

सत्येंद्र नाथ बोस (अंग्रेज़ी: Satendra Nath Bose, जन्म:1 जनवरी, 1894 कोलकाता; मृत्यु:4 फ़रवरी, 1974 कोलकाता) प्रसिद्ध गणितज्ञ और भौतिक शास्त्री थे। भौतिक शास्त्र में दो प्रकार के अणु माने जाते हैं- बोसॉन और फर्मियान। इनमें से बोसॉन सत्येन्द्र नाथ बोस के नाम पर ही है।

जीवन परिचय

सत्येंद्र नाथ बोस का जन्म 1 जनवरी 1894 को कोलकाता में हुआ था। मित्रों के बीच 'सत्येन' और विज्ञान जगत में 'एस. एन. बोस' के नाम से जाने गये। इनके पिता श्री 'सुरेन्द्र नाथ बोस' रेल विभाग में काम करते थे। महान् वैज्ञानिक प्राय: दो प्रकार के होते हैं-

  1. वे जो अपनी स्कूली पढ़ाई में कमज़ोर होते हैं।
  2. वे जो शुरू से ही पढ़ाई में अव्वल होते हैं।


महान वैज्ञानिक आइंस्टाइन पहले वर्ग में आते हैं और भारतीय वैज्ञानिक सत्येंद्र नाथ बोस दूसरे वर्ग में आते हैं। ये पढ़ाई में हमेशा से ही अच्छे थे, विशेष तौर से गणित में बहुत कुशाग्र थे। एक बार गणित के शिक्षक ने श्री बोस को 100 में से 110 अंक दिये थे क्योंकि इन्होंने सभी सवालों को हल करने के साथ-साथ कुछ सवालों को एक से ज़्यादा तरीक़े से हल किया था।
परिवार के साथ सत्येंद्रनाथ बोस (बाएं से दूसरे बैठे हुए) सन् 1960

शिक्षा

बोस ने अपनी स्कूली शिक्षा 'हिन्दू हाईस्कूल' कोलकाता से पूरी की उसके बाद 'प्रेसिडेंसी कॉलेज' में प्रवेश लिया जहाँ पर उस समय श्री 'जगदीश चंद्र बोस' और 'आचार्य प्रफुल्ल चंद्र राय' जैसे महान् शिक्षक अध्यापन करते थे। सत्येंद्र नाथ बोस ने सन् 1913 में बी. एस. सी. और सन् 1915 में एम. एस. सी. प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण किया। मेघनाथ साहा और प्रशांत चंद्र महालनोविस बोस के सहपाठी थे। मेघनाथ साहा और सत्येंद्र नाथ बोस ने बी. एस. सी. तथा एम. एस. सी. की पढ़ाई साथ-साथ की। बोस सदैव कक्षा में प्रथम स्थान पर और साहा द्वितीय स्थान पर रहते थे। उस समय भारत में विश्वविद्यालय और कॉलेज बहुत कम होते थे। अतः विज्ञान शिक्षा प्राप्त छात्रों का भविष्य बहुत निश्चित नहीं होता था। इसलिए बहुत सारे छात्र विज्ञान की बजाय दूसरे विषय को चुनते थे। परंतु कुछ छात्रों ने ऐसा नहीं किया। और ये वही लोग हैंजिन्होंने भारतीय विज्ञान में नये अध्याय जोड़े। सी. वी. रामन का जीवन इसका बहुत अच्छा उदाहरण है जो विज्ञान शिक्षा प्राप्त करने के बाद सरकारी नौकरी करने लगे, किंतु विज्ञान के लगाव के कारण नौकरी के साथ-साथ दस वर्षों तक शोधकार्य में भी लगे रहे और अवसर मिलने पर जमी जमायी सरकारी नौकरी छोड़कर पूरी तरह से विज्ञान की साधना में लग गये। सर आशुतोष मुखर्जी ने रामन को यह अवसर प्रदान किया और बोस एवं साहा की सहायता की। आशुतोष मुखर्जी पेशे से वकील थे जो आगे चलकर कोलकाता उच्च न्यायालय के न्यायाधीश बने। उस समय बहुत कम भारतीय इतने ऊँचे पद पर पहुँच पाते थे। आशुतोष मुखर्जी अपने विषय में पारंगत थे और साथ ही वह विज्ञान में भी बहुत रुचि रखते थे तथा अपने अतिरिक्त समय में वे भौतिक-गणित पर व्याख्यान भी देते थे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिग्स बोसॉन का असली देवता: सत्येंद्र नाथ बसु (हिंदी) साइंटिफिक वर्ल्ड। अभिगमन तिथि: 7 नवम्बर, 2013।
  2. 2.0 2.1 हिंग्स बोसॉन और सत्येंद्र नाथ बोस (हिंदी) प्रभाव डॉट ओआरजी। अभिगमन तिथि: 7 नवम्बर, 2013।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सत्येंद्रनाथ_बोस&oldid=634749" से लिया गया