अमाडियो आवोगाड्रो  

आवोगाड्रो, अमाडियाे (1776-1856 ई.) इटैलियन वैज्ञानिक थे। प्रारंभ में उन्होंने कानून तथा दर्शनशास्त्र का अध्ययन किया और 1796 में कानून में डाक्टरेट प्राप्त किया। बहुत समय पश्चात्‌ उन्होंने भौतिक शास्त्र का अध्यापन प्रारंभ किया। उन्हें टयूरिन विश्वविद्यालय में 1802 में प्रोफेसर का पद मिला, जो राजनीतिक कारणों से 1822 तक ही रहा। परंतु कुछ वर्षो के बाद उसी पद पर पुन: उनकी नियुक्ति हुई। उनका महत्वपूर्ण लेख 'जर्नल दा फिज़ीक' (1811) में छपा। उनकी विशेष वैज्ञानिक देन वह नियम है जो अब आवोगाड्रो की परिकल्पना (आवोगाड्रोज़ हाइपॉथेसिस) के नाम से प्रसिद्ध है।[1]

लोगों को इस परिकल्पना का ठीक ज्ञान कैनी जारों के स्पष्टीकरण से बहुत बाद में हुआ। उसके पहले इस परिकल्पना तथा उसके सिद्धांत पर किसी ने ध्यान नहीं दिया। 1814 में फ्रांस के वैज्ञानिक ऐंपेअर ने वे ही विचार व्यक्त किए जो तीन वर्ष पहले आवोगाड्रो की परिकल्पना में थे। मोलिक्यूल (अणु) शब्द का वैज्ञानिक प्रयोग तथा उसके अर्थ का स्पष्टीकरण भी आवोगाड्रो ने ही किया था।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 458 |
  2. सं.ग्रं.-सर विलियम ए.टिल्डेन: फ़ेमस केमिस्ट्स (1930); जे.आर. पारटिंगटन: ए शॉर्ट हिस्ट्री ऑव केमिस्ट्री (1951)।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अमाडियो_आवोगाड्रो&oldid=629779" से लिया गया