शिमोगा  

शिमोगा कर्नाटक के सम्पन्न शहरों में से एक है। ख़ूबसूरत प्राकृतिक नज़ारों और ख़ुशनुमा मौसम के कारण भी शिमोगा बेहतरीन पर्यटन स्थल के रूप में जाना जाता है। तुंगा नदी की उर्वरक भूमि के तट पर स्थित यह शहर कर्नाटक में ख़ासा महत्त्व रखता है। इस शहर का नाम शिव-मुख से लिया गया है, जिसका अर्थ है- 'शिव का चेहरा'।

  • इतिहास में दक्षिण भारत के महान् शासकों के साम्राज्य में शिमोगा की महत्त्वपूर्ण भूमिका रही है।
  • यह बेंगलुरु से 275 कि.मी. की दूरी पर स्थित है।
  • शिमोगा ज़िले से पाँच नदियाँ प्रवाहित होती हैं, जिस वजह से यह बहुत उपजाऊ क्षेत्र है।
  • इसे 'कर्नाटक का ब्रेड बास्केट' और 'कर्नाटक का राइस बाउल' भी कहा जाता है।
  • भरपूर वर्षा और सह्याद्रि रेंज के कारण यहाँ की नदियों में पानी की पर्याप्त आपूर्ति होती है।
  • स्थानीय लोग शिमोगा को 'धरती का स्वर्ग' कहते हैं। यहाँ मंदिर, पहाड़ और जोग फॉल स्थित है, जो देश का सबसे ऊँचा पानी का झरना है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. धरती का स्वर्ग शिमोगा (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 5 अक्टूबर, 2012।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शिमोगा&oldid=603577" से लिया गया