मॉरीशस  

मॉरीशस
मॉरीशस का राष्ट्रीय ध्वज
राजधानी पोर्ट लुई
राजभाषा अंग्रेज़ी
निवासी मॉरिशियाई
स्वतंत्रता प्राप्ति 1968
गणराज्य 1992
मुद्रा मॉरिशियाई रुपया (MUR)
यातायात चालन दिशा बाएँ
दूरभाष कूट 230
राष्ट्रवाक्य "Stella Clavisque Maris Indici" (लैटिन)

"हिन्द महासागर का सितारा और कुंजी"

राष्ट्रगान मदरलैंड (मातृभूमि)
अन्य जानकारी मॉरीशस की जनसंख्या में लगभग 52 प्रतिशत हिन्दू हैं। यहाँ के हिंदुओं में शैवों की संख्या सर्वाधिक है। यही वजह है कि यहां शिव के मन्दिरों की बहुतायत है।

मॉरीशस (अंग्रेज़ी: Mauritius) नीले सागर और श्वेत सागर तटों का देश है। यह दुनिया के सबसे ख़ूबसूरत द्वीपों में से एक है, जिसके लिए मार्क ट्वेन ने कहा था कि- "ईश्वर ने पहले मॉरीशस बनाया और फिर उसमें से स्वर्ग की रचना की।" मॉरीशस और भारत का बहुत गहरा नाता है। मॉरीशस को औपनिवेशिक शासन से आज़ादी दिलाने में भारतीय मूल के सर शिवसागर रामगुलाम ने अगुआई की थी। आज भी वहाँ हिन्दी और भोजपुरी का प्रचलन देखकर विदेशी जमीन पर भारतीय मिट्टी की महक महसूस की जा सकती है। यह देश अफ़्रीका में सबसे अधिक प्रतिव्यक्ति आय वाले देशों में से एक है।

इतिहास

यदि मॉरीशस के इतिहास पर दृष्टि डाली जाये तो सबसे पुराने अभिलेख लगभग 10वीं शताब्दी की शुरुआत के हैं, जो द्रविड़ (तमिल) और ऑस्ट्रोनेशी नाविकों के संदंर्भ से आते है। पुर्तग़ाली नाविक सबसे पहले यहाँ 1507 ई. में आये। उन्होंने इस निर्जन द्वीप पर एक यात्रा अड्डा स्थापित किया और फिर इस द्वीप को छोड़कर चले गये। सन् 1598 ई. में हॉलैंड के तीन पोत जो मसाला द्वीप की यात्रा पर निकले थे, एक चक्रवात के दौरान रास्ता भटक कर यहाँ पहुँच गये। उन्होंने इस द्वीप का नाम अपने नासाओं के युवराज मॉरिस के सम्मान में मॉरिशस रख दिया। 1638 ई. में डच लोगों ने यहाँ पहली स्थायी बस्ती बसाई।

चक्रवातों वाली कठोर जलवायु की परिस्थितियों और बस्ती को होने वाले लगातार नुकसान के कारण डचों ने कुछ दशकों के बाद इस द्वीप को छोड़ दिया। फ़्राँस, जिसका पहले से ही इसके पड़ोसी आइल बॉरबोन (अब रीयूनियन) द्वीप पर नियंत्रण था, ने 1715 ई. में मॉरीशस पर कब्ज़ा कर लिया और इसका नाम बदलकर 'आइल दे फ़्राँस' (फ़्राँस का द्वीप) रख दिया। फ़्राँस के शासन में यह द्वीप एक समृद्ध अर्थव्यवस्था के रूप में विकसित हुआ जो चीनी उत्पादन पर आधारित थी। यह आर्थिक परिवर्तन गवर्नर फ्रेंकॉएस माहे दे लेबॉर्डॉनाइस के द्वारा शुरू किया गया था। ब्रिटेन के साथ अपने कई सैन्य संघर्षों के दौरान, फ़्राँस ने गैरक़ानूनी घोषित जलदस्युओं कोर्सेर्स को शरण दी, जो अक्सर ब्रिटिश जहाजों, जिन पर मूल्यवान व्यापार का माल लदा होता था, को उनकी भारत और ब्रिटेन के मध्य होने वाली यात्राओं के दौरान लूट लेते थे। सन् 1803-1815 के दौरान हुए नेपोलियन युद्धों में ब्रिटिश इस द्वीप का नियंत्रण पाने में सफल हो गये।

मॉरीशस का कुल चिह्न

ग्रांड पोर्ट की लड़ाई जीतने के बावजूद, जो कि नेपोलियन की ब्रिटिशों पर एकमात्र समुद्री विजय थी, फ़्राँसीसी, तीन महीने बाद, केप मैलह्युरॉ में ब्रिटेन से हार गये। उन्होंने औपचारिक रूप से 3 दिसम्बर, 1810 ई. को कुछ शर्तों के साथ समर्पण कर दिया। शर्तें यह थीं कि द्वीप पर फ़्राँसीसी भाषा का प्रयोग जारी रहेगा और आपराधिक मामलों में नागरिकों पर फ़्राँस का क़ानून लागू होगा। ब्रिटिश शासन के अंतर्गत इस द्वीप का नाम बदलकर वापस मॉरीशस कर दिया गया। 1965 में ब्रिटेन ने छागोस द्वीपसमूह को मॉरीशस से अलग कर दिया। उन्होंने ऐसा ब्रिटिश हिंद महासागर क्षेत्र स्थापित करने के लिये किया, जिससे वे सामरिक महत्व के द्वीपों का प्रयोग संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ रक्षा सहयोग के विभिन्न प्रयोजनों के लिए कर सकें। हालाँकि मॉरीशस की तत्कालीन सरकार उनके इस कदम से सहमत थी, पर बाद की सरकारों ने उनके इस कदम को अंतरराष्ट्रीय क़ानून के तहत अवैध बताया और इन द्वीप समूहों पर अपना अधिकार जताया है। मॉरीशस ने 1968 में स्वतंत्रता प्राप्त की और देश राष्ट्रमंडल के तहत 1992 में एक गणतंत्र बना। मॉरीशस एक स्थिर लोकतंत्र है, जहाँ नियमित रूप से स्वतंत्र चुनाव होते हैं और मानवाधिकारों के मामले में भी देश की छवि अच्छी है। इसके चलते यहाँ काफी विदेशी निवेश हुआ है और

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मॉरीशस के मौसम को और भी बेहतर तरीके से जानिए (हिन्दी) blog.thomascook.in। अभिगमन तिथि: 07 अगस्त, 2018।
  2. मॉरीशस में 'राम-राम' (हिंदी) praveenguptahindu.blogspot। अभिगमन तिथि: 07 अगस्त, 2018।
  3. कैसा है मॉरीशस का रामायण सेंटर (हिंदी) satyagrah.scroll.in। अभिगमन तिथि: 07 अगस्त, 2018।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मॉरीशस&oldid=634291" से लिया गया