भवानीविलास  

भवानीविलास रीति काल के ख्याति प्राप्त कवि देव की सुप्रसिद्ध रचना है। 'भावविलास' और 'अष्टयाम' के पश्चात् यह कवि देव की तीसरी रचना मानी जाती है, जिसको उन्होंने अपने आश्रयदाता भवानीदत्त को अर्पित किया था।

रचना काल

अन्तर्बाह्य किसी भी प्रकार के साक्ष्य से 'भवानीविलास' का रचना काल ज्ञात नहीं होता। अनुमानत: इसका निर्माण 1693-97 ई. (संवत 1750-55) के लगभग हुआ होगा। नगेन्द्र का यही अनुमान है।[1] ग्रंथ की सम्पूर्ण छन्द संख्या 384 है।

प्रकाशन

इसका प्रकाशन 'भारत जीवन प्रेम', बनारस से सन 1893 ई. में हुआ था तथा हस्तलिखित प्रतियाँ गन्धौली, सूर्यपुरा, टीकमगढ़ और लखनऊ में उपलब्ध हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 'देव और उनकी कविता' ,पृ. 42-43
  2. सहायक ग्रंथ- शि. स.; मि. वि.; हि. का. शा. ई.; री. भू. तथा दे. क.; देव के लक्षण ग्रंथों का पाठ और पाठ समस्याएँ (अ.) : अक्ष्मीघर मालवीय।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=भवानीविलास&oldid=613336" से लिया गया