बल्लीमारान, दिल्ली  

गली क़ासिम जान (बल्लीमारान), दिल्ली

बल्लीमारान दिल्ली के मुग़ल कालीन बाज़ार चाँदनी चौक से जुड़ा एक यादगार स्थान है। इस जगह से कई मशहूर शख्सियतों का वास्ता रहा है जिनमें महान् शायर ग़ालिब, हकीम अजमल ख़ाँ और प्रसिद्ध गीतकार एवं फ़िल्म निर्देशक गुलज़ार प्रमुख हैं। वर्तमान में यहाँ एक तरफ जूतों का बाज़ार है तो दूसरी ओर ऐनक का बाज़ार। इसके बीच बल्लीमारान की पहचान कहीं गुम सी हो गई है। इस मंडी को देखकर कौन मानेगा कि कभी यहां अदब की एक बड़ी परंपरा रहती थी।

इतिहास

वर्षों पहले गुलज़ार ने एक टीवी धारावाहिक बनाया था "ग़ालिब"। उसके शीर्षक गीत में उन्होंने चूड़ीवालान से तुक मिलाते हुए बल्लीमारान का ज़िक्र किया था। उस बल्लीमारान का जिसकी गली कासिमजान में इस उपमहाद्वीप के शायद सबसे बड़े शायर ग़ालिब ने अपने जीवन के आखिरी कुछ साल गुजारे थे। उसके बाद से तो बल्लीमारान और ग़ालिब एकमेक हो गए। कासिमजान के बारे में कोई नहीं जानता जिसके नाम पर वह गली आबाद हुई, बल्लीमारान के अतीत को कोई नहीं जानता। ग़ालिब और बल्लीमारान।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 1.3 शाइरों-अदीबों की गली बल्लीमारान (हिंदी) डेली न्यूज़। अभिगमन तिथि: 29 दिसम्बर, 2012।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख


और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=बल्लीमारान,_दिल्ली&oldid=603601" से लिया गया