सांगल  

सांगल नामक नगर अलक्षेंद्र (सिकंदर) को अपने भारत पर आक्रमण के समय (327 ई. पू.) रावी नदी को पार करने के बाद तीन दिन की यात्रा के पश्चात् मिला था। यह नगर एक परकोटे के अंदर स्थित था। इसी स्थान पर कठ आदि के कई गणतंत्र राज्यों ने मिलकर अलक्षेंद्र का डटकर सामना किया था।[1]

  • इस स्थान का अभिज्ञान अभी तक ठीक प्रकार से नहीं किया जा सका है।
  • इतिहासकार कनिंघम ने इस आधार पर कि 'शाकल' और 'सांगल' एक ही हैं, 'संगलटिब्बा' से इसका अभिज्ञान किया था, किंतु ‘रिपोर्ट आॅन संगलटिम्बा’[2] में सी. जी. रोजर्स ने इस अभिज्ञान को गलत साबित किया था।
  • स्मिथ के अनुसार यह स्थान गुरदासपुर ज़िले में रहा होगा।
  • सांगल नगर को सिकंदर की सेना ने पूर्णरूपेण विध्वंस कर दिया था, इसलिये उसके अवशेष मिलने की कोई संभावना नहीं है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 948 |
  2. न्यूजप्रेस लाहौर, 1906
  3. जिल्द 1, पृ. 371

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सांगल&oldid=505938" से लिया गया