अमृतसर  

अमृतसर
Golden-Temple-Amritsar-3.jpg
विवरण पश्चिमोत्तर भारत में स्थित अमृतसर पाकिस्तानी सीमा पर, पंजाब का सबसे बड़ा नगर है।
राज्य पंजाब
ज़िला अमृतसर
स्थापना 1577 में सिक्खों के चौथे गुरु रामदास द्वारा स्थापित
भौगोलिक स्थिति उत्तर- 31°38′ - पूर्व- 74°52
मार्ग स्थिति अमृतसर दिल्ली से 469 किमी दूर स्थित है।
प्रसिद्धि अमृतसर स्वर्ण मंदिरजलियांवाला बाग़ के लिए विश्व प्रसिद्ध है।
कैसे पहुँचें अमृतसर हवाई जहाज़, रेल, बस व कार से पहुंचा जा सकता है।
हवाई अड्डा श्री गुरु राम दास जी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे
रेलवे स्टेशन अमृतसर रेलवे स्टेशन
बस अड्डा बस अड्डा, अमृतसर
यातायात टैक्सी, ऑटो रिक्शा, रिक्शा
क्या देखें अमृतसर पर्यटन
कहाँ ठहरें होटल, अतिथि ग्रह, धर्मशाला
क्या खायें अमृतसर के व्यंजन पूरे विश्व में प्रसिद्ध हैं। यहाँ का बना सामिष भोजन, मक्के की रोटी, सरसों का साग और लस्सी बहुत प्रसिद्ध है।
एस.टी.डी. कोड 0183
ए.टी.एम लगभग सभी
Map-icon.gif गूगल मानचित्र
अन्य जानकारी ऐतिहासिक समय में सिक्खों के आदिगुरु नानक ने भी इस स्थान के प्राकृतिक सौंन्दर्य से आकृष्ट होकर यहाँ कुछ देर के लिए एक वृक्ष के नीचे विश्राम तथा ध्यान किया था।
बाहरी कड़ियाँ आधिकारिक वेबसाइट
अद्यतन‎
अमृतसर शहर, ज़िले का प्रशासनिक मुख्यालय, पंजाब राज्य, पश्चिमोत्तर भारत में स्थित है। अमृतसर पाकिस्तानी सीमा पर, पंजाब का सबसे बड़ा नगर है। यह गुरु रामदास का डेरा हुआ करता था। अमृतसर अनेक त्रासदियों और दर्दनाक घटनाओं का गवाह रहा है। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का सबसे बड़ा नरसंहार अमृतसर के जलियांवाला बाग़ में ही हुआ था। इसके बाद भारत-पाकिस्तान के बीच जो बंटवारा हुआ उस समय भी अमृतसर में बड़ा हत्याकांड हुआ। यहीं नहीं अफ़ग़ान और मुग़ल शासकों ने इसके ऊपर अनेक आक्रमण किए और इसको बर्बाद कर दिया। इसके बावजूद सिक्खों ने अपने दृढ संकल्प और मज़बूत इच्छाशक्ति से दोबारा इसको बसाया। हालांकि अमृतसर में समय के साथ काफ़ी बदलाव आए हैं लेकिन आज भी अमृसतर की गरिमा बरकरार है।

स्थापना

सीमा से लगभग 50 किमी दूर स्थित अमृतसर एक प्रमुख व्यापारिक व सांस्कृतिक केंद्र है। 1577 में सिक्खों के चौथे गुरु रामदास ने अमृत सारस नामक एक पवित्र सरोवर, जिसके नाम पर इस शहर का नामकरण हुआ, के किनारे अमृतसर की स्थापना की थी। इस तालाब के ठीक मध्य में टापू पर एक मंदिर बनाया गया था, जिसके तांबे के गुंबद को बाद में स्वर्ण-पतरों से मढ़ दिया गया, इस मंदिर का नाम हरमंदिर साहब या स्वर्ण मंदिर रखा गया। अब अमृतसर सिक्ख धर्म का केंद्र बन गया है। उभरती हुई सिक्ख शक्ति के केंद्र के साथ-साथ यह शहर व्यापार के क्षेत्र में भी महत्त्वपूर्ण बनता गया।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अमृतसर&oldid=574894" से लिया गया