मोहम्मद उस्मान  

मोहम्मद उस्मान
मोहम्मद उस्मान
पूरा नाम ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान
अन्य नाम नौशेरा का शेर
जन्म 15 जुलाई 1912
जन्म भूमि आज़मगढ़
मृत्यु 3 जुलाई 1948
मृत्यु स्थान जम्मू
अभिभावक बहादुर मोहम्मद फ़ारुख (पिता)
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र भारतीय सेना में ब्रिगेडियर
पुरस्कार-उपाधि महावीर चक्र
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख भारत-पाकिस्तान युद्ध (1947)
अन्य जानकारी मोहम्मद उस्मान की अंतिम यात्रा में गवर्नर जनरल लार्ड माउंटबेटन, प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू, केंद्रीय मंत्री मौलाना अबुल कलाम आज़ाद और शेख अब्दुल्ला भी थे।

ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान (अंग्रेज़ी: Mohammad Usman, जन्म- 15 जुलाई, 1912, आज़मगढ़; शहादत- 3 जुलाई, 1948) भारतीय सेना के एक उच्च अधिकारी थे, जो भारत और पाकिस्तान के प्रथम युद्ध (1947-48) में शहीद हुए। उस्मान 'नौशेरा के शेर के' रूप में ज्यादा जाने जाते हैं। वह भारतीय सेना के सर्वाधिक प्रतिष्ठित और साहसी सैनिकों में से एक थे, जिन्होंने जम्मू में नौशेरा के समीप झांगर में मातृभूमि की रक्षा करते हुए अपने प्राण गंवा दिए थे।

परिचय

मोहम्मद उस्मान का जन्म 15 जुलाई, 1912 को आजमगढ़, उत्तर प्रदेश में हुआ था। वह भारतीय सैन्य अधिकारियों के उस शुरुआती बैच में शामिल थे, जिनका प्रशिक्षण ब्रिटेन में हुआ। द्वितीय विश्व युद्ध में अपने नेतृत्व के लिए प्रशंसा पाने वाले ब्रिगेडियर उस्मान उस 50 पैरा ब्रिगेड के कमांडर थे, जिसने नौशेरा में जीत हासिल की। मोहम्मद उस्मान भारत की आज़ादी के महज 11 महीने बाद पाकिस्तानी घुसपैठियों से जंग करते हुए शहीद हो गए। यह उल्लेखनीय है कि तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और उनकी कैबिनेट के सहयोगी जुलाई, 1948 में उनकी राजकीय अंत्येष्टि में शामिल हुए। यह वह सम्मान है जो इसके बाद किसी भारतीय फौजी को नहीं मिला।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. राष्ट्रीयता के प्रतीक शहीद मो उस्मान (हिंदी) प्रभात खबर। अभिगमन तिथि: 2 मई, 2013।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मोहम्मद_उस्मान&oldid=633013" से लिया गया