भारतीय सशस्त्र सेना  

भारत विषय सूची
भारतीय सशस्त्र सेना
भारतीय सेना का ध्वज
विवरण थल सेना, नौसेना, तटरक्षक और वायु सेना सहित भारत की संयुक्त सशस्त्र सेना, जो विश्व की विशालतम सेनाओं में से एक है।
स्थापना 15 अगस्त, 1947
प्रकार सेना
आकार 1,129,900 सक्रिय कर्मी

960,000 रिज़र्व कर्मी

भाग रक्षा मंत्रालय और भारतीय सशस्त्र बल
मुख्यालय नई दिल्ली, भारत
उद्देश्य भारत की रक्षा नीति का प्रमुख उद्देश्य यह है कि भारतीय उपमहाद्वीप में उसे बढ़ावा दिया जाए एवं स्थायित्व प्रदान किया जाए तथा देश की रक्षा सेनाओं को पर्याप्त रूप से सुसज्जित किया जाए, ताकि वे किसी भी आक्रमण से देश की रक्षा कर सकें।
रंग सुनहरा, लाल और काला
थल सेनाध्यक्ष जनरल बिक्रम सिंह[1]
वीरता पुरस्कार परमवीर चक्र, कीर्ति चक्र, शौर्य चक्र, महावीर चक्र, अशोक चक्र, वीर चक्र
संबंधित लेख सैम मानेकशॉ, के. एम. करिअप्पा
बाहरी कड़ियाँ आधिकारिक वेबसाइट

भारत की संयुक्त सशस्त्र सेना थल सेना, नौसेना, तटरक्षक और वायु सेना सहित है जो विश्व की विशालतम सेनाओं में से एक है। भारत की रक्षा नीति का प्रमुख उद्देश्य यह है कि भारतीय उपमहाद्वीप में उसे बढ़ावा दिया जाए एवं स्थायित्व प्रदान किया जाए तथा देश की रक्षा सेनाओं को पर्याप्त रूप से सुसज्जित किया जाए, ताकि वे किसी भी आक्रमण से देश की रक्षा कर सकें।

वर्ष 1946 के पूर्व भारतीय रक्षा का पूरा नियंत्रण अंग्रेज़ों के हाथों में था। उसी वर्ष केंद्र में अंतरिम सरकार में पहली बार एक भारतीय, बलदेव सिंह, देश के रक्षा मंत्री बने, हालांकि कमांडर-इन-चीफ एक अंग्रेज़ ही रहा। 1947 में देश का विभाजन होने पर भारत को 45 रेजीमेंट मिलीं, जिनमें 2.5 लाख सैनिक थे। शेष रेजीमेंट पाकिस्तान चली गयीं। गोरखा फ़ौज़ की 6 रेजीमेंट (लगभग 25,000 सैनिक) भी भारत को मिलीं। शेष गोरखा सैनिक ब्रिटिश सेना में सम्मिलित हो गये। ब्रिटिश सेना की अंतिम टुकड़ी सामरसैट लाइट इन्फैंट्री की पहली बटालियन हो गयी, और भारतीय भूमि से 28 फ़रवरी, 1948 को स्वदेश रवाना हुई। कुछ अंग्रेज़ अफ़सर परामर्शक के रूप में कुछ समय तक भारत में रहे लेकिन स्वतंत्रता के पहले क्षण से ही भारतीय सेना पूर्णत: भारतीयों के हाथों में आ गयी थी। स्वतंत्रता के तुरंत पश्चात् भारत सरकार ने भारतीय सेना के ढांचे में कतिपय परिवर्तन किये। थल सेना, वायु सेना एवं नौसेना अपने-अपने मुख्य सेनाध्यक्षों के अधीन आयी। भारतीय रियासतों की सेना को भी देश की सैन्य व्यवस्था में शामिल कर लिया गया। 26 जनवरी, 1950 को देश के गणतंत्र बनने पर भारतीय सेनाओं की संरचनाओं में आवश्यक परिवर्तन किये गये। भारत की रक्षा सेनाओं का सर्वोच्च कमांडर भारत का राष्ट्रपति है, किन्तु देश रक्षा व्यवस्था की ज़िम्मेदारी मंत्रिमंडल की है। रक्षा से संबंधित सभी महत्त्वपूर्ण मामलों का फ़ैसला राजनीतिक कार्यों से संबंधी मंत्रिमंडल समिति[2] करती है, जिसका अध्यक्ष प्रधानमंत्री होता है। रक्षा मंत्री सेवाओं से संबंधित सभी विषयों के बारे में संसद के समक्ष उत्तरदायी है।

परम्परा व इतिहास

सेना की लंबी परम्परा व इतिहास है। आरंभ में यह केवल थलसेना ही थी। कहा जाता है कि भारत में सेनाओं का नियोजन चौथी शताब्दी ई.पू. से ही प्रचलन में था। मुख्य संघटन पैदल सेना, रथ और हाथी थे। यद्यपि भारत का एक लंबा नौ-इतिहास है, लेकिन भारतीय जलक्षेत्र में पुर्तग़ालियों के आगमन के बाद ही नौसेना विकसित हुई। वायुसेना का गठन प्रथम विश्व युद्ध के दौरान और 1913 में उत्तर प्रदेश में एक सैनिक उड्डयन स्कूल की स्थापना के साथ हुआ। भारतीय सेना का सर्वोच्च नियंत्रण भारत के राष्ट्रपति के पास है। रक्षा मंत्रालय देश की रक्षा से संबंधित सभी मामलों में नीतियाँ बनाने व उन्हें लागू करने के लिए उत्तरदायी है। मंत्रालय का प्राथमिक कार्य सशस्त्र सेनाओं का प्रशासन है। यहाँ संघीय (केंद्रीय) मंत्रिमंडल राष्ट्र की रक्षा के लिए संयुक्त रूप से उत्तरदायी है, वहीं रक्षा मंत्री मंत्रिमंडल की ओर से उत्तरदायित्वों का निर्वहन करता है। प्रत्येक सेना का अपना सेना प्रमुख होता है और तीनों प्रमुख रक्षा की विस्तृत योजना बनाने, तैयारी करने और क्रमशः अपनी सेना के संचालन व प्रशासन के लिए उत्तरदायी होते हैं। नागरिक स्वेच्छा से सेनाओं में शामिल होते हैं और सुप्रशिक्षित, दक्ष पेशेवर अफ़सरों के दल द्वारा इनका नेतृत्व किया जाता है। भारतीय सशस्त्र सेनाओं में घरेलू राजनीति से दूर रहने की परंपरा रही है और ये विश्व भर में शांति सेना के रूप में भी असाधारण रही हैं।

भारत के प्रक्षेपास्त्र
क्रम प्रक्षेपास्त्र प्रकार मारक क्षमता आयुध वजन क्षमता प्रथम परीक्षण लागत विकास स्थिति
1 अग्नि-1 सतह से सतह पर मारक (इंटरमीडिएट बैलिस्टिक प्रक्षेपास्त्र) 1200 से 1500 किलोमीटर 1000 किलोग्राम 22 मई, 1989 8 करोड़ रू. विकसित एवं तैनात
2 अग्नि-2 सतह से सतह पर मारक (इंटरमीडिएट बैलिस्टिक प्रक्षेपास्त्र) 1500 से 2000 किलोमीटर 1000 किलोग्राम (परम्परागत एवं परमाण्विक) 11 अप्रॅल, 1999 8 करोड़ रू. विकसित एवं प्रदर्शित
3 अग्नि-3 इंटरमीडिएट बैलिस्टिक प्रक्षेपास्त्र 3000 किलोमीटर 1500 किलोग्राम 9 जुलाई, 2006 (असफल), 12 अप्रॅल, 2007 (प्रथम सफल परीक्षण) निर्माणाधीन
4 पृथ्वी सतह से सतह पर मारक अल्प दूरी के टैक्टिकल बैटल फील्ड प्रक्षेपास्त्र 150 से 250 किलोमीटर 500 किलोग्राम 25 फ़रवरी, 1989 3 करोड़ रू. विकसित एवं तैनात
5 त्रिशूल सतह से वायु में मारक लो लेवेल क्लीन रिएक्शन अल्प दूरी के प्रक्षेपास्त्र 500 मीटर से 9 किलोमीटर 15 किलोग्राम 5 जून, 1989 45 लाख रू. विकसित एवं तैनात
6 नाग सतह से सतह पर मारक टैंक भेदी प्रक्षेपास्त्र 4 किलोमीटर 10 किलोग्राम 29 नवम्बर, 1991 25 लाख रू. विकसित एवं तैनात
7 आकाश सतह से वायु में मारक बहुलक्षक प्रक्षेपास्त्र 25 से 30 किलोमीटर 55 किलोग्राम 15 अगस्त, 1990 1 करोड़ रू. विकसित एवं तैनात
8 अस्त्र वायु से वायु में मारक प्रक्षेपास्त्र 25 से 40 किलोमीटर 300 किलोग्राम 9 मई, 2003 निर्माणाधीन
9 ब्रह्मोस पोतभेदी सुपर सोनिक क्रूज़ प्रक्षेपास्त्र 290 किलोमीटर 12 जून, 2001 विकसित एवं तैनात
10 शौर्य सतह से सतह पर मारक बैलिस्टिक प्रक्षेपास्त्र 600 किलोमीटर 12 नवम्बर, 2008 विकासशील एवं परीक्षणाधीन

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. General Bikram Singh
  2. कैबिनेट कमेटी ऑन पॉलिटिकल अफेयर्स
  3. तरल ईंधन वाला बैलिस्टिक प्रक्षेपास्त्र
  4. 4.0 4.1 4.2 भारतीय सशस्‍त्र सेनाएं (हिन्दी) अधिकारिक वेबसाइट। अभिगमन तिथि: 6 फ़रवरी, 2011

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=भारतीय_सशस्त्र_सेना&oldid=612646" से लिया गया