वाराणसी  

(बनारस से पुनर्निर्देशित)


वाराणसी विषय सूची
वाराणसी
वाराणसी का दृश्य
विवरण वाराणसी, बनारस या काशी भी कहलाता है। वाराणसी दक्षिण-पूर्वी उत्तर प्रदेश राज्य, उत्तरी-मध्य भारत में गंगा नदी के बाएँ तट पर स्थित है और हिन्दुओं के सात पवित्र नगरों में से एक है।
राज्य उत्तर प्रदेश
ज़िला वाराणसी ज़िला
भौगोलिक स्थिति उत्तर- 25.282°, पूर्व- 82.9563°
मार्ग स्थिति वाराणसी, इलाहाबाद से 125 किलोमीटर पश्चिम, लखनऊ से 281 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व तथा दिल्ली से लगभग 780 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में है।
कब जाएँ अक्टूबर से मार्च
कैसे पहुँचें हवाई जहाज़, रेल, बस, टैक्सी
हवाई अड्डा लाल बहादुर शास्त्री हवाई अड्डा
रेलवे स्टेशन वाराणसी जंक्शन, मुग़लसराय जंक्शन
बस अड्डा अंतर्राज्यीय बस अड्डा आनन्‍द विहार
यातायात ऑटो रिक्शा, रिक्शा, बस, मिनी बस, नाव, स्टीमर
क्या देखें विश्वनाथ मंदिर, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी की नदियाँ, वाराणसी के घाट
कहाँ ठहरें होटल, धर्मशाला, अतिथि-ग्रह
क्या खायें पान, कचौड़ी-सब्ज़ी, चाट, ठंडाई
क्या ख़रीदें बनारसी साड़ी
एस.टी.डी. कोड 0542
ए.टी.एम लगभग सभी
Map-icon.gif गूगल मानचित्र, वाराणसी हवाई अड्डा
संबंधित लेख गंगा नदी, सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय, महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ
बाहरी कड़ियाँ आधिकारिक वेबसाइट
अद्यतन‎

वाराणसी, बनारस या काशी भी कहलाता है। वाराणसी दक्षिण-पूर्वी उत्तर प्रदेश राज्य, उत्तरी-मध्य भारत में गंगा नदी के बाएँ तट पर स्थित है और हिन्दुओं के सात पवित्र नगरों में से एक है। इसे मन्दिरों एवं घाटों का नगर भी कहा जाता है। वाराणसी का पुराना नाम काशी है। वाराणसी विश्व का प्राचीनतम बसा हुआ शहर है। यह गंगा नदी के किनारे बसा है और हज़ारों साल से उत्तर भारत का धार्मिक एवं सांस्कृतिक केन्द्र रहा है। दो नदियों वरुणा और असि के मध्य बसा होने के कारण इसका नाम वाराणसी पड़ा। बनारस या वाराणसी का नाम पुराणों, रामायण, महाभारत जैसे अनेकानेक ग्रन्थों में मिलता है। वेदों में भी काशी का उल्लेख है। संस्कृत पढ़ने प्राचीन काल से ही लोग वाराणसी आया करते थे। वाराणसी के घरानों की हिन्दुस्तानी संगीत में अपनी ही शैली है।

स्थिति

वाराणसी भारतवर्ष की सांस्कृतिक एवं धार्मिक नगरी के रूप में विख्यात है। इसकी प्राचीनता की तुलना विश्व के अन्य प्राचीनतम नगरों जेरुसलेम, एथेंस तथा पेइकिंग (बीजिंग) से की जाती है।[1] वाराणसी गंगा के बाएँ तट पर अर्द्धचंद्राकार में 250 18’ उत्तरी अक्षांश एवं 830 1’ पूर्वी देशांतर पर स्थित है। प्राचीन वाराणसी की मूल स्थिति विद्वानों के मध्य विवाद का विषय रही है।

विद्वानों के मतानुसार

शेरिंग,[2] मरडाक,[3] ग्रीब्ज,[4] और पारकर[5] जैसे विद्वानों के मतानुसार प्राचीन वाराणसी वर्तमान नगर के उत्तर में सारनाथ के समीप स्थित थी। किसी समय वाराणसी की स्थिति दक्षिण भाग में भी रही होगी। लेकिन वर्तमान नगर की स्थिति वाराणसी से पूर्णतया भिन्न है, जिससे यह प्राय: निश्चित है कि वाराणसी नगर की प्रकृति यथासमय एक स्थान से दूसरे स्थान पर विस्थापित होने की रही है। यह विस्थापन मुख्यतया दक्षिण की ओर हुआ है, पर किसी पुष्ट प्रमाण के अभाव में विद्वानों का उक्त मत समीचीन नहीं प्रतीत होता है।

गंगा नदी के तट पर बसे इस शहर को ही भगवान शिव ने पृथ्वी पर अपना स्‍थायी निवास बनाया था। यह भी माना जाता है कि वाराणसी का निर्माण सृष्टि रचना के प्रारम्भिक चरण में ही हुआ था। यह शहर प्रथम ज्‍योर्तिलिंग का भी शहर है। पुराणों में वाराणसी को ब्रह्मांड का केंद्र बताया गया है तथा यह भी कहा गया है यहाँ के कण-कण में शिव निवास करते हैं। वाराणसी के लोगों के अनुसार, काशी के कण-कण में शिवशंकर हैं। इनके कहने का अर्थ यह है कि यहाँ के प्रत्‍येक पत्‍थर में शिव का निवास है। कहते हैं कि काशी शंकर भगवान के त्रिशूल पर टिकी है।

हेवेल की दृष्टि में

हेवेल की दृष्टि में वाराणसी नगर की स्थिति विस्थापन प्रधान थी, अपितु प्राचीन काल में भी वाराणसी का वर्तमान स्वरूप सुरक्षित था।[6] हेवेल के मतानुसार बुद्ध पूर्व युग में आधुनिक सारनाथ एक घना जंगल था और यह विभिन्न धर्मावलंबियों का आश्रय स्थल भी था। भौगोलिक दशाओं के परिप्रेक्ष्य में हेवेल का मत युक्तिसंगत प्रतीत होता है। वास्तव में वाराणसी नगर का अस्तित्व बुद्ध से भी प्राचीन है तथा उनके आविर्भाव के सदियों पूर्व से ही यह एक धार्मिक नगरी के रूप में ख्याति प्राप्त था। सारनाथ का उद्भव महात्मा बुद्ध के प्रथम धर्मचक्र प्रवर्तन के उपरांत हुआ। रामलोचन सिंह ने भी कुछ संशोधनों के साथ हेवेल के मत का समर्थन किया है। उनके अनुसार नगर की मूल स्थिति प्राय: उत्तरी भाग में स्वीकार करनी चाहिए।[7] हाल में अकथा के उत्खनन से इस बात की पुष्टि होती है कि वाराणसी की प्राचीन स्थिति उत्तर में थी जहाँ से 1300 ईसा पूर्व के अवशेष प्रकाश में आये हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. डायना एल इक, बनारस सिटी ऑफ़ लाइट (न्यूयार्क, 1982), प्रथम संस्करण, पृष्ठ 4
  2. एम. ए. शेरिंग, दि सेक्रेड सिटीज ऑफ़ दि हिन्दूज, (लंदन, 1968) पृष्ठ 19-34
  3. जे. मरडाक, काशी और बनारस (1894) पृष्ठ 5
  4. ई. ग्रीब्ज, काशी, इलाहाबाद, 1909, पृष्ठ 3-4
  5. ए. पारकर, ए हैंडबुक ऑफ़ बनारस, पृष्ठ 2
  6. ई.वी. हैवेल, बनारस दि सेक्रेड सिटी पृष्ठ 41-50
  7. रामलोचन सिंह, बनारस, एक सिटी इन अर्बन ज्योग्राफी, पृष्ठ 31
  8. वाराणसीति यत् ख्यातं तम्मानं निगदामिव। दक्षिणातरयौ नयौ परणासिश्चपूर्णत:॥- पद्मपुराण, काशी माहात्म्य 5/58
  9. अथर्ववेद, 4/7/1
  10. महाभारत, शांतिपर्व 37, 9
  11. महाभारत, वनपर्व 84, 78
  12. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 844 |
  13. विनयपिटक, जिल्द 1, पृष्ठ 262
  14. मोतीचंद्र, काशी का इतिहास, पृष्ठ 49
  15. सुत्तनिपात, अध्याय 2, पृष्ठ 523
  16. आई.सी.एस.ई
  17. सी.बी.एस.ई
  18. यू.पी.बोर्ड
  19. बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय एक्ट, एक्ट क्रमांक 16, सन् 1915
  20. जातक, भाग 2, पृष्ठ 145 (संख्या 147) मोतीचंद्र, काशी का इतिहास, पृष्ठ 45
  21. जातक, भाग 2, संख्या 163, पृष्ठ 215
  22. जातक, भाग 2, संख्या 163, पृष्ठ 132
  23. 139- जातक, भाग 1, पृष्ठ 208
  24. वाराणसी (अंग्रेज़ी) (एच.टी.एम.एल) वाराणसी की आधिकारिक वेबसाइट। अभिगमन तिथि: 23 फ़रवरी, 2011।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=वाराणसी&oldid=604048" से लिया गया