दामाजी गायकवाड़ द्वितीय  

(दामाजी गायकवाड़ से पुनर्निर्देशित)


  • दामाजी गायकवाड़ द्वितीय, पिलाजी गायकवाड़ का पुत्र था।
  • पिलाजी गायकवाड़ आरम्भ में मराठा सेनापति त्र्यम्बकराव दाभाड़े की सेना में एक सैनिक था।
  • 1731 ई. में बिल्हापुर के युद्ध मे त्र्यम्बकराव दाभाड़े की पराजय हुई और वह मारा गया।
  • इस युद्ध में दामाजी गायकवाड़ द्वितीय ने अपने पिता पिलाजी गायकवाड़ के साथ अदभुत शौर्य का प्रदर्शन किया था।
  • दामाजी गायकवाड़ द्वितीय के शौर्य और वीरता से प्रभावित होकर विजेता पेशवा बाजीराव प्रथम ने दामाजी को अपनी सेवा में रख लिया।
  • 1732 ई. में पिलाजी गायकवाड़ दी हत्या कर दी गई और दामाजी गायकवाड़ द्वितीय को उसका उत्तराधिकारी बनाया गया।
  • बाजीराव प्रथम ने बाद में दामाजी गायकवाड़ द्वितीय को गुजरात में पेशवा का प्रतिनिधि नियुक्त कर दिया।
  • इस प्रकार दामाजी गायकवाड़ मराठा संघ का एक प्रमुख सरदार बन गया।
  • सरदार बनने के कुछ ही समय बाद उसने बड़ौदा को अपनी राजधानी बनाकर गुजरात में गायकवाड़ सत्ता स्थापित की।
  • दामाजी गायकवाड़ द्वितीय ने बाजीराव प्रथम के बाद दूसरे पेशवा बालाजी बाजीराव की भी सेवा की और 1761 ई. में पानीपत के युद्ध में भाग लिया।
  • पानीपत के युद्ध में पराजय हो जाने के कारण दामाजी गायकवाड़ द्वितीय जान बचाने के लिए युद्ध क्षेत्र से भाग आया।
  • अपनी इस पराजय के बाद भी दामाजी गुजरात को अपने अधिकार में किये रहा।
  • 1768 ई. में दामाजी गायकवाड़ द्वितीय मृत्यु हो गई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=दामाजी_गायकवाड़_द्वितीय&oldid=227806" से लिया गया