तालाकट  

तालाकट कावेरी नदी के बाएँ किनारे पर स्थित रेगिस्तान की तरह का शहर है। यहाँ कावेरी नदी एक तेज मोड़ बनाती है। तालाकट मैसूर, कर्नाटक से 45 कि.मी तथा बैंगलोर से 133 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। यह एक ऐतिहासिक स्थल है।

'तत: स रत्नान्यादाय पुन: प्रायाद् युधाम्पति: तत: शूर्पारकं चैव तालाकट मथापिच, वशेचक्रे महातेजा दंडकांश्च महाबल:'[1]
  • पाण्डव सहदेव ने इस स्थान को अपनी दिग्विजय यात्रा में विजित किया था। इसकी स्थिति शूर्पारक या वर्तमान सोपारा के निकट रही होगी।
  • किसी समय तालाकट में 30 से भी अधिक मन्दिर थे। अब कई मन्दिर रेत में समा गये हैं।
  • अब यह एक आध्यात्मिक और तीर्थ यात्रा केन्द्र है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत, सभापर्व 31, 65-66.

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=तालाकट&oldid=501830" से लिया गया