पट्टदकल  

पट्टदकल में एक मन्दिर के अवशेष

पट्टदकल एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थान है, जो कर्नाटक के बीजापुर ज़िले में मलयप्रभा नदी के तट पर, बादामी से 12 मील की दूरी पर स्थित है। चालुक्य साम्राज्य के दौरान पट्टदकल एक ख्याति प्राप्त महत्त्वपूर्ण शहर हुआ करता था। अद्भुत शिल्पकला की वजह से इस शहर को 'विश्व विरासत स्थलों' की सूची में रखा गया है। पट्टदकल ऐतिहासिक मंदिरों और भारतीय स्थापत्य कला की बेसर शैली के आरंभिक प्रयोगों वाले स्मारक समूह के लिए प्रसिद्ध है। ये मंदिर आठवीं शताब्दी में बनवाये गये थे। यहाँ द्रविड़ (दक्षिण भारतीय) तथा नागर (उत्तर भारतीय या आर्य) दोनों ही शैलियों के मंदिर हैं। अपने ख़ूबसूरत मंदिरों के लिए ही यह शहर 'मन्दिरों का शहर' कहलाता है। यहाँ बड़ी संख्या में श्रृद्धालु तथा पर्यटक आते हैं।

इतिहास

पट्टदकल दक्षिण भारत के चालुक्य वंश की राजधानी बादामी से 22 कि.मी. और एहोल शहर से मात्र 10 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। एहोल को 'स्थापत्य कला का महाविद्यालय' तो पट्टदकल को 'विश्वविद्यालय' कहा जाता है। आठवीं शताब्दी में चालुक्य वंश द्वारा बनवाये गये पट्टदकल के स्मारक हिन्दू मंदिर वास्तुकला में बेसर शैली के प्रयोग का चरम हैं। यूनेस्को ने वर्ष 1987 में पट्टदकल को 'विश्व धरोहर' की सूची में शामिल किया था। चालुक्य साम्राज्य के दौरान पट्टदकल महत्वपूर्ण शहर हुआ करता था। राजनीतिक केंद्र और राजधानी हालांकि उस दौरान 'वातापी' (वर्तमान बादामी) राजनीतिक केंद्र और राजधानी थी, जबकि पट्टदकल सांस्कृतिक राजधानी थी। यहाँ पर राजसी उत्सव और राजतिलक जैसे कार्यक्रम हुआ करते थे।

प्रसिद्धि

992 ई. के एक अभिलेख में पट्टदकल नगर को चालुक्य नरेशों की राजधानी कहा गया है। सातवीं शताब्दी के अंतिम चरण में ग्यारहवीं शताब्दी तक निर्मित मन्दिरों के लिए यह स्थान प्रख्यात रहा। पट्टदकल के मन्दिर बादामी और ऐहोल से अधिक विकसित हैं। पट्टदकल की मूर्तिकला धार्मिक और लौकिक दोनों प्रकार की है। प्रथम में देवी-देवताओं तथा रामायण-महाभारत की अनेक धार्मिक कथाओं का चित्रण मिलता है। दूसरी में सामाजिक और घरेलू जीवन, पशु-पक्षी, वाद्य यंत्र तथा पंचतंत्र की कथाओं का अंकन मिलता है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पट्टदकल&oldid=620418" से लिया गया