बेलूर  

चेन्नाकेशव मंदिर, बेलूर
Chennakeshava Temple, Belur

बेलूर कर्नाटक राज्य के हासन ज़िले का एक ऐतिहासिक स्थान है। यह श्रवणबेलगोला से 22 मील दूर है। मध्य काल में यहाँ होयसल राज्य की राजधानी थी।

स्थिति

बेंगलुरु-हरिहर पुणे लाइन के वाणावर स्टेशन से बेलूर 16 मील दक्षिण पश्चिम में है। बाबा बुदन पहाड़ी से निकली मागची नदी बेलूर को छूती हुई बहती है। हेलेविड से मोटर बस के रास्ते यह 10 मील दूर है। यह स्थान मोटर बसों का केंद्र है। यहां से आर सी केरे, हेलेविड, वाणावर, चिकमगलूर आदि को बसे जाती हैं। ठहरने के लिए यहां एक डाक बंगला है।

चेन्नाकेशव का प्रसिद्ध मन्दिर

चेन्नाकेशव का प्रसिद्ध मन्दिर भी बेलूर में स्थित है। होयसल वंशीय नरेश विष्णुवर्धन का 1117 ई. में बनवाया हुआ चेन्नाकेशव का प्रसिद्ध मन्दिर बेलूर की ख्याति का कारण है। इस मन्दिर को, जो स्थापत्य एवं मूर्तिकला की दृष्टि से भारत के सर्वोत्तम मन्दिरों में है, मुसलमानों ने कई बार लूटा, किन्तु हिन्दू नरेशों ने बार-बार इसका जीर्णोद्वार करवाया। मन्दिर 178 फुट लम्बा और 156 फुट चौड़ा है। परकोटे में तीन प्रवेशद्वार हैं, जिनमें सुन्दिर मूर्तिकारी है। इसमें अनेक प्रकार की मूर्तियाँ जैसे हाथी, पौराणिक जीव-जन्तु, मालाएँ, स्त्रियाँ आदि उत्कीर्ण हैं।

मंदिर नक्षत्र की आकृति का है। प्रवेश द्वार पूर्वाभिमुख है। मुख्य द्वार से प्रवेश करने पर एक चतुष्कोण मंडप आता है। वह मंडप खुला है। भगवान की मूर्ति लगभग 7 फुट ऊंची चतुर्भुज है। उनके साथ उनके दाहिने भूदेवी और बायें में लक्ष्मी देवी, श्रीदेवी है। शंख, चक्र, गदा और पद्म उनके हाथों में है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कल्याण विशेषांक तीर्थ अंक, प्रश्न संख्या 314

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=बेलूर&oldid=633093" से लिया गया