हलसी मैसूर  

हलसी मैसूर (उत्तरी कर्नाटक) के बेलगाम ज़िले का शहर है। प्राचीन समय में यह स्थान कदम्ब वंश की राजधानी रहा था। आज भी यहाँ ऐतिहासिक इमारतें और स्मारक मौजूद हैं।

  • छठी शती ई. में हलसी में जैन मत के अनुयायी कदम्ब नरेशों ने पल्लवों तथा मैसूर नरेश गंग को परास्त कर दक्षिण महाराष्ट्र में अपना स्वतंत्र राज्य स्थापित किया था।
  • हलसी को 'हालसी' या 'हालशी' भी कहा जाता है। यह उत्तरी कर्नाटक के बेलगाम ज़िले के ख़ानपुर ताल्लुक का एक शहर है।
  • ख़ानपुर से लगभग 14 कि.मी. और कित्तूर से 25 कि.मी. की दूरी पर हलसी स्थित है।
  • प्राचीन समय में हलसी कदम्ब वंश की राजधानी रहा था।
  • इस क्षेत्र की पृष्ठभूमि पश्चिमी घाट श्रेणी के हरे-भरे वनों से भरी है।
  • हलसी में एक वृहत भूवाराह मंदिर भी है। मंदिर में भगवान नृसिंह, वाराह, नारायण और सूर्य की बड़ी मूर्तियाँ स्थापित हैं। इसके अतिरिक्त यहाँ 'अगोकामेश्वर', 'हाटकेश्वर', 'कपिलेश्वर', 'स्वामेश्वर' आदि भी मंदिर हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हलसी_मैसूर&oldid=345140" से लिया गया