जरसोप्पा  

जरसोप्पा मैसूर, कर्नाटक में स्थित ऐतिहासिक स्थान है। मुडाबदरी की भाँति ही इस स्थान पर मध्य युगीन मंदिरों के अवशेष पाए गए हैं। ये मंदिर पूर्व गुप्त कालीन मंदिरों की भाँति वर्गाकार तथा शिखर रहित हैं।[1]

  • यहाँ के मंदिरों की छतों को पाटने के लिए पत्थरों को ढलाव के साथ रखा गया है, जो देश के इस भाग में होने वाली वर्षा को देखते हुए आवश्यक जान पड़ता है।
  • कनारा ज़िले के मध्य युगीन अर्थात् 16वीं शती तक के मंदिरों में पटे हुए प्रदक्षिणापथ गुप्त मंदिरों के ही अनुरूप हैं।
  • मंदिर के गर्भगृह के सामने एक मंडप की उपस्थिति इन मंदिरों का सामान्य लक्षण है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 358 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जरसोप्पा&oldid=612721" से लिया गया