खुर्दा  

खुर्दा या खोरधा उड़ीसा के ऐतिहासिक स्थानों में से एक है। यह कटक के 25 मील (लगभग 40 कि.मी.) दूर स्थित है। यहाँ एक प्राचीन दुर्ग के अवशेष और जगन्नाथपुरी के प्राचीन राजाओं के भवन भी अभी तक स्थित हैं। खुर्दा में हाटकेश्वर का मंदिर है।[1]

  • खुर्दा उड़ीसा राज्य के खुर्दा ज़िले का मुख्यालय शहर है। प्रारंभ में खुरदा के नाम से मशहूर उड़ीसा का खोरधा ज़िला 2889 वर्ग कि.मी. के क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • यहाँ प्रवाहित होने वाली नदियों में दया नदी और कूखई नदी प्रमुख है।
  • खुर्दा ज़िले का निर्माण 1 अप्रैल, 1993 को पुरी और नयागढ़ ज़िले को काटकर किया गया था।
  • उड़ीसा राज्य की राजधानी भुवनेश्वर खुर्दा ज़िले के अन्तर्गत ही आती है। आरंभ में यह उड़ीसा शासकों की राजधानी थी।
  • यह ज़िला कुटीर उद्योगों, चरखा मिल, केबल फैक्ट्री, रेलवे कोच रिपेयरिंग फैक्ट्री और तेल उद्योग के लिए लोकप्रिय है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार |पृष्ठ संख्या: 257 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=खुर्दा&oldid=343931" से लिया गया