उदयगिरि और खण्डगिरि गुफ़ाएँ  

उदयगिरि और खण्डगिरि गुफ़ाएँ
उदयगिरि और खण्डगिरि गुफ़ाएँ, भुवनेश्वर
विवरण ये गुफ़ाएँ उदयगिरि और खण्डगिरि पहाडियों में पत्‍थरों को काट कर बनाई गई थी।
राज्य राजस्थान
ज़िला जोधपुर
मार्ग स्थिति भुवनेश्वर से सात मील दूर पश्चिमोत्तर में उदयगिरि के निकट की पहाड़ी खण्डगिरि कहलाती है।
Map-icon.gif गूगल मानचित्र
संबंधित लेख हाथी गुम्फा अभिलेख, चित्रकला, चैत्य गृह, जैन धर्म, भुवनेश्वर, उड़ीसा
अन्य जानकारी उदयगिरि और खण्डगिरि गुफ़ाओं में निर्मित चैत्य गृह जैन धर्म से सम्बन्ध रखते हैं। उदयगिरि चैत्य गृह का निर्माण शुंग काल में हुआ था।
अद्यतन‎

उदयगिरि और खण्डगिरि नामक दो गुफ़ाएँ जो भुवनेश्वर (उड़ीसा) के समीप दो पहाड़ियाँ पर स्थित है। ये गुफ़ाएँ उदयगिरि और खण्डगिरि पहाडियों में पत्‍थरों को काट कर बनाई गई थी। यहाँ से कलिंग के प्रसिद्ध शासक खारवेल का लेख मिलता है। यहाँ खारवेल ने जैन साधुओं के लिए विहार बनवाये थे। इन गुफ़ाओं में की गई अधिकांश चित्रकारी नष्‍ट हो गई है। उदयगिरि में रानी गुफ़ा तथा खण्डगिरि में अनन्तगुफ़ा उत्कीर्ण रिलीफ चित्रकला की दृष्टि से उच्चकोटि के है।

उदयगिरि गुफ़ाएँ

गाँव एवं पुरातात्विक स्थल उदयगिरि दक्षिण मध्य उड़ीसा राज्य के भुवनेश्वर के समीप स्थित है। इस गाँव में बौद्ध एवं जैन धर्म से सम्बन्धित चट्टानों को काटकर बनाई गई गुफ़ाएँ और प्रतिमाएँ हैं। इन गुफ़ाओं में निर्मित चैत्य गृह जैन धर्म से सम्बन्ध रखते हैं। उदयगिरि चैत्य गृह का निर्माण शुंग काल में हुआ था। इनमें से एक दुमंजिला गुफ़ा है, जिसको रानी गुफ़ा कहते हैं। इसमें कई कक्ष हैं। यह गुफ़ा अलंकृत है। उदयगिरि की मंचपुरी गुफ़ा से रिलीफ स्थापत्य के सुन्दर उदाहरण मिलते हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 95| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=उदयगिरि_और_खण्डगिरि_गुफ़ाएँ&oldid=628132" से लिया गया