ऊतक विज्ञान  

ऊतक विज्ञान या ऊतिकी (Histology) की परिभाषा देते हुए स्टोरर ने लिखा है : ऊतक विज्ञान या सूक्ष्म शरीर (microscopic anatomy) अंगों के भीतर ऊतकों की संरचना तथा उनके विन्यास (arrangement) के अध्ययन को कहते हैं। अँगरेजी का हिस्टोलॉजी शब्द यूनानी भाषा के शब्द हिस्टोस्‌ (histos) तथा लॉजिया (logia) से मिलकर बना है, जिनका अर्थ होता है ऊतकों (tissues) का अध्ययन। अत: ऊतक विज्ञान वह विज्ञान है, जिसके अंतर्गत ऊतकों की सूक्ष्म संरचना तथा उनकी व्यवस्था अथवा विन्यास का अध्ययन किया जाता है। 'ऊतक' शब्द फ्रांसीसी भाषा के शब्द टिशू (tissu) से निकला है, जिसका अर्थ होता है संरचना या बनावट (texture)। इस शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम फ्रांसीसी शारीर वैज्ञानिक (anatomist) बिशैट (Bichat) ने 18वीं शताब्दी के अंत में शारीर या शरीर-रचना विज्ञान के प्रसंग में किया था। उन्होंने अपनी पुस्तक में लगभग बी प्रकार के ऊतकों का उल्लेख किया है। किंतु, आजकल केवल चार प्रकार के मुख्य ऊतकों (द्र. ऊतक) को मान्यता प्राप्त है, जिनके नाम हैं : इपीथिलियमी (epithelial), संयोजक (connective), पेशीय (musclar) और तंत्रिकीय ऊतक (nervous tissues)।

आदिकाल से ही मनुष्य पशु - पक्षियों और पेड़-पौधों को उनकी आकृति तथा आकार के द्वारा पहचानता रहा है। विज्ञान के विकास के साथ वनस्पतियों तथा जंतुओं के शरीर के भीतर की संरचना जानने की भी जिज्ञासा उत्पन्न होती गई। इसी जिज्ञासा के फलस्वरूप शल्यक्रिया (surgery) का विकास हुआ। चिकित्सा तथा जीववैज्ञानिकों ने पशु और वनस्पतियों की चीरफाड़ करके उनके अंग की संरचनाओं-अंग प्रतयंगों-का अध्ययन आरंभ किया। इसी अध्ययन के फलस्वरूप संपूर्ण शारीर (gross anatomy) की उत्पत्ति हुई। इसी के साथ जब सूक्ष्मदर्शी यंत्रों (microscopes) का विकास हुआ तो जटिल आंतरिक संरचनाएँ भी स्पष्ट होती गई। इस सूक्ष्मदर्शीय यांत्रिक अध्ययन को भौतिकी की संज्ञा प्रदान की गई। अत: ब्लूम तथा फॉसेट के शब्दों में 'ऊतिकी या सूक्ष्मदर्शी शारीर के अंतर्गत शरीर की वह आंतरिक संरचना आती है जो नंगी आँखों से नहीं दिखलाई देती

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 2 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 179 |
  2. सं.ग्रं.-बेलीज़ टेक्स्ट बुक ऑव हिस्टोलॉजी; रिवाइज्ड़ बाइविल्फ्रडे एम. कोपेनहैवर (संपादक) एवं डोरोथी डी. जॉनसन; 14वीं आवृत्ति; विलियम्स ऐंड विल्किन्स कं., बाल्टीमोर, 1958; बोर्न, जी.एच. (संपादक); साइटोलॉजी; ऐंड सेल फ़िज़िओलॉजी; तृतीय आवृत्ति; एकेडेमिक प्रेस, न्यूयार्क; 1964; ब्लूम, विलियम एवं डॉन डब्ल्यू. फॉसेट, ए टेक्स्ट बुक आफॅ हिस्टोलॉजी; 9वीं एशियन आवृत्ति; डब्ल्यू.वी.सॉण्डर्स कं., फ़िलॉडेल्फ़िया (इगाकू शोइन लि. टोकियो), 1970; डी. रॉबर्टीज़ ई. पी.डी. डब्ल्यू, डब्ल्यू., नोपिन्स्की ऐंड एफ़.ए.सेज : जेनरल साइटोलॉजी, तृतीय आवृत्ति, डब्ल्यू.बी.सॉण्डर्स कं. फिला., 1960; ग्रीप, आर.ओ. (संपादक) : हिस्टोलॉजी, मैक्ग्रा हिल बुक कं. न्यूयॉर्क, 1954।
और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ऊतक_विज्ञान&oldid=632664" से लिया गया