वंश भास्कर  

वंश भास्कर राजस्थान के इतिहास से सम्बंधित एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक कृति है, जिसकी रचना चारण कवि सूर्यमल्ल मिश्रण द्वारा उन्नीसवीं शताब्दी में की गई थी।

  • कवि सूर्यमल बूँदी के हाड़ा शासक महाराव रामसिंह के दरबारी कवि थे।
  • 19वीं शताब्दी में रचित इस पिंगल काव्य ग्रंथ में बूँदी राज्य का विस्तृत, ऐतिहासिक एवं उत्तरी भारत का इतिहास तथा राजस्थान में मराठा विरोधी भावना का उल्लेख किया गया है।
  • 'वंश भास्कर' को पूर्ण करने का कार्य कवि सूर्यमल के दत्तक पुत्र मुरारीदान ने किया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=वंश_भास्कर&oldid=499636" से लिया गया