ऋण उतार देना  

ऋण उतार देना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है ।

अर्थ - लिया हुआ ऋण वापस करना मित्र अथवा उपकार करनेवाले के प्रति उपकार करना।

प्रयोग - जटायू ने सीताके चुरा ले जानेवाले का रावण से लड़कर अपने मित्र दशरथ का ऋण चुका दिया।- (सीताराम चतुर्वेदी)

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ऋण_उतार_देना&oldid=623857" से लिया गया