आनन्द रामायण  

आनन्द रामायण महर्षि वाल्मीकि द्वारा रचित भगवान श्रीराम की कथाओं से सम्बंधित ग्रंथ है।

  • आनन्द रामायण का रचियता महर्षि वाल्मीकि को माना गया है, परन्तु यह ‘अध्यात्मरामायण’ के उपरान्त लिखी गई है, क्योंकि इस पर अध्यात्मरामायण का प्रभाव स्पष्ट दिखाई देता है। इसमें 12,252 श्लोक हैं और यह 9 काण्डों में विभक्त है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=आनन्द_रामायण&oldid=639675" से लिया गया