सांता क्लॉज़  

सांता क्लॉज

सांता क्लॉज़ (अंग्रेज़ी: Santa Claus) को सेंट निकोलस, फ़ादर क्रिसमस (क्रिसमस के जनक), क्रिस क्रिंगल, या सिर्फ 'सांता' के नाम से भी जाना जाता है। पौराणिक और ऐतिहासिक दृष्टि से वे लोक कथाओं में प्रचलित एक व्यक्ति हैं। कई पश्चिमी संस्कृतियों में ऐसा माना जाता है कि सांता क्रिसमस की पूर्व संध्या, यानि 24 दिसम्बर की शाम या देर रात के समय के दौरान अच्छे बच्चों के घरों में आकर उन्हें उपहार देता है।

क्रिसमस पर सांता क्लॉज

क्रिसमस का त्योहार हर साल 25 दिसंबर को पूरी दुनिया में मनाया जाता है। यह त्योहार प्रेम व मानवता का संदेश तो देता ही है साथ ही यह भी बताता है कि खुशियां बांटना ही ईश्वर की सच्ची सेवा है। सांता क्लॉज़ द्वारा बच्चों को उपहार बांटना इसी बात का प्रतीक है। जब-जब सांता क्लॉज़ की बात चलती है, तो मन में एक ऐसे व्यक्ति की छवि उभरती है, जो दानशील है, दयालु है और सबके चेहरे पर खुशियां बिखेरने के लिए, ख़ासतौर पर नॉर्थ पोल से चलकर आता है। सांता केवल एक धर्म विशेष के नहीं बल्कि पूरी मानवता के जीवन्त प्रतीक है। सांता क्‍लाज़ लालसफ़ेद ड्रेस पहने हुए, एक वृद्ध मोटा पौराणिक चरित्र है, जो रेन्डियर पर सवार होता है। सांता क्लॉज़ का नाम सभी बच्चे विशेष रूप से जानते हैं। हो..हो..हो.. कहते हुए लाल-सफेद कपड़ों में बड़ी-सी श्वेत दाढ़ी और बालों वाले, कंधे पर गिफ्ट्स से भरा बड़ा-सा बैग लटकाए, हाथों में क्रिसमस बेल लिए सांता क्लॉज़ बच्चों से बहुत प्यार करते हैं। बच्चों के प्यारे सांता जिन्हें ‘‘संत निकोलस’’, क्रिस क्रींगल, क्रिसमस पिता भी कहा जाता है, जो केवल क्रिसमस वाले दिन ही आते हैं। इस दिन सांता क्‍लॉज बच्चों को चॉकलेट्स, उपहार देकर बच्चों की मुस्कुराहट का कारण बन जाते हैं। तभी तो हर क्रिसमस बच्चे अपने सांता अंकल का बेसब्री से इंतज़ार करते हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सांता_क्लॉज़&oldid=622471" से लिया गया