रेलवे उपकरण  

भारत में रेलवे से सम्बन्धित उपकरणों को बनाने में आत्मनिर्भरता प्राप्त कर ली गयी है। इससे सम्बन्धित पहली कम्पनी झारखण्ड के सिंहभूमि ज़िलें में 'पेनिन्सुलर लोकोमोटिव कम्पनी' के नाम से 1921 में स्थापित की गयी थी। इसको 1945 में टाटा समूह ने ख़रीद कर 'टाटा इंजीनियरिंग एण्ड लोकोमोटिव कम्पनी' (टेल्को) का नाम दिया। 1950 में पश्चिम बंगाल राज्य के मिहीजाम नामक स्थान पर चितरंजन लोकोमोटिव वक्र्स की स्थापना की गयी। यहाँ 1961 से बिजली के इंजन बनाये जाने लगे हैं। 1961 में डीजल लोकोमोटिव वक्र्स, मडुआडीह (वाराणसी) की स्थापना हुई। यहाँ रेल के डीजल इंजन बनाये जाने जाते हैं।

निर्माण कम्पनियाँ

  • रेल की पटरियों का निर्माण स्टील अथारिटी ऑफ़ इण्डिया, इण्डियन आयरन एण्ड स्टील कम्पनी तथा टाटा आयरन एण्ड स्टील कम्पनी द्वारा किया जाता है।
  • रेल के वैगनों का निर्माण करने वाली प्रमुख कम्पनियाँ हैं-
    • बर्न स्टैण्डर्ड कम्पनी लिमिटेड
    • भारत बैगन एण्ड इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड
    • जेम्सप एण्ड कंपनी तथा ब्राथवैट एण्ड कंपनी।
  • रेलवे के सवारी डिब्बों का निर्माण करने वाली सबसे प्रमुख कम्पनी हैं-
    • इण्टीग्रल कोच फैक्टरी, पेराम्बूर (चेन्नई)। इसकी स्थापना 1955 में की गयी थी।
अन्य कम्पनियाँ-


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=रेलवे_उपकरण&oldid=526624" से लिया गया