फ़ादर एंथोनी मोंसेरात  

  • फ़ादर एंथोनी मोंसेरात 1580 ई. के लगभग मुग़ल दरबार में आया था।
  • वह एक जेशुइट साधु था, जिसे गोआ के पुर्तग़ाली अधिकारियों द्वारा मुग़ल दरबार में भेजा गया था।
  • फ़ादर एंथोनी मोंसेरात को ख़ासतौर पर मुग़ल बादशाह अकबर निमंत्रण पर भेजा गया था।
  • 'मोंसेरात' और उसके सहयोगी 'एकावीना', इन दोनों का अकबर ने भारी स्वागत किया था।
  • अकबर ने अपने दूसरे पुत्र मुराद को पुर्तग़ाली भाषा सीखने के लिए साधु मोंसेरात के सुपुर्द कर दिया था।
  • मोंसेरात कई वर्ष अकबर के दरबार में रहा, और उसने लैटिन भाषा में जेशूइट मिशन का पूरा वृत्तान्त लिखा, जिसका वह सदस्य था।
  • यह विवरण अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है, और अकबर के राज्यकाल के बारे में एक समसामयिक स्रोत ग्रन्थ है।
  • मोंसेरात ने अकबर की शक्ल-सूरत, पोशाक, धार्मिक मान्यताओं, शहज़ादों व शहज़ादियों की शिक्षा आदि के बारे में विस्तार से लिखा है।
  • वह अकबर के साथ काबुल अभियान पर भी गया था।
  • उसने मुग़लकालीन शासन व्यवस्था, डाक वाहकों, जल घड़ी तथा नवरोज के उत्सव को भी उल्लिखित किया है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=फ़ादर_एंथोनी_मोंसेरात&oldid=638531" से लिया गया