पाखण्डमत  

पाखण्डमत प्राय: वेद विरोधी कापालिकप्रभृति मतों को कहा जाता है और इनके अनुयायी 'पाखण्डी' कहलाते हैं। बुद्ध अपने द्वारा उपदिष्ट सम्प्रदाय के अतिरिक्त अन्य मत वालों को 'पाखण्डी' अथवा 'पाषण्डी' कहते थे।

  • पद्मपुराण के 'पाषण्डोत्पत्ति' अध्याय में लिखा है कि लोगों को भ्रष्ट करने के लिए शिव की दुहाई देकर पाखण्डियों ने अपना मत प्रचलित किया है।
  • इस पुराण में जिसको 'पाखण्डीमत' कहा गया है, तंत्र में उसी को शिवोक्त आदेश कहा गया है।
  • प्राचीन धर्मशास्त्र के ग्रन्थों में इसका अर्थ बौद्ध और जैन सम्प्रदाय है।
  • न्याय और शासन के कर्तव्य निर्देशार्थ जहाँ कुछ विधान विधर्मी प्रजाओं के लिए किया गया है, वहाँ उन्हें पाखण्डी, पाखण्डधर्मी कहा गया है।
  • इसमें निन्दा का भाव नहीं, वेदमार्ग से भिन्न पथ या उसका अनुयायी होने का अर्थ है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पाखण्डमत&oldid=469267" से लिया गया