कामड़िया पंथ  

कामड़िया पंथ की स्थापना राजस्थान के लोकदेवता माने जाने वाले बाबा रामदेवजी ने की थी। आजकल इस पंथ ने एक जाति (कामड़िया) का रूप धारण कर लिया है।

  • बाबा रामदेवजी ने कामड़िया पंथ आरंभ किया था, जिसमें उच्च जातियों एवं अछूत कही जाने वाली जातियों के सदस्य सम्मिलित हुए थे।
  • इस पंथ के लोग अपने सिर पर भगवा रंग की पगड़ी धारण करते हैं और बाबा रामदेवजी का जागरण करते हैं।
  • कामड़िया पंथ में प्रचलित धर्म के दस लक्षणों को मान्यता मिलने के कारण इसे 'दसाधरम' भी कहा जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कामड़िया_पंथ&oldid=492899" से लिया गया