नव नालन्दा महाविहार  

नव नालन्दा महाविहार पाली साहित्य और बौद्ध धर्म के अध्ययन और अनुसंधान के लिए समर्पित, अपेक्षाकृत एक नया संस्थान है। यह विदेश के छात्रों को भी आकर्षित करता है।

  • इस संस्थान की स्थापना प्राचीन नालंदा महाविहार की तर्ज पर पाली और बौद्ध धर्म में उच्च अध्ययन के केंद्र के रूप में विकसित करने के उद्देश्य से की गई थी।
  • संस्थान प्रारम्भ से ही एक आवासीय संस्थान के रूप में कार्य कर रहा है।
  • भारतीय और विदेशी छात्रों को सीमित संख्या में दाखिला प्रदान किया जाता है।
  • नव नालंदा महाविहार को भारत के विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा "डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटी" का दर्जा दिया गया है।
  • महाविहार का वर्तमान परिसर ऐतिहासिक इंद्रपुष्कर्णी झील के दक्षिणी तट पर स्थित है, जबकि प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय के भग्नावशेष झील के उत्तरी तट के करीब स्थित है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. नव नालन्दा महाविहार (हिन्दी) अतुल्य भारत। अभिगमन तिथि: 28 दिसम्बर, 2019।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नव_नालन्दा_महाविहार&oldid=637939" से लिया गया