कुचाई  

कुचाई एक ऐतिहासिक स्थल है, जो भारत के पूर्वी समुद्रतट उड़ीसा के मयूरभंज ज़िले में बुर्हाबलंग नदी के तट पर स्थित है।

उत्खनन

कुचाई नवप्रस्तरकालीन स्थल का उत्खनन बी.के थापर ने भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण विभाग के तत्त्वावधान में 1961-1962 ई. के मध्य करवाया था। कुचाई स्थल पर 1.4 मीटर का जमाव अनावृत्त किया गया। इसमें सबसे नीचे का स्तर प्रस्तर गुटका,सिलेटी मिट्टी व मोरम आदि से बना है। कुचाई स्थर में अज्यामितिय लघु-आश्मक प्राप्त हुए हैं। इसके ऊपर 40 से 45 सैंटीमीटर मोटी नव-प्रस्तरकालीन परत बिछी थी। प्रस्तर उपकरण तथा मृद्भाण्ड ही यहाँ के मुख्य अवशेष हैं। कुचाई पर उत्खनन से प्राप्त सामग्री में गोले मूँठधारी कुल्हाड़ियाँ, शल्क-चिह्नित फरसा, फल, छेनी, वलय-प्रस्तर, मूसल व लोढ़े हैं। मृद्भाण्डों में उल्लेखनीय वर्ग रुक्ष सतही लोहित पात्रों का है। इस वर्ग के कुछ पात्र अधपके तथा लेपयुक्त हैं। नारंगी और भूरी सतह वाले पात्र भी इस वर्ग की विशेषता हैं। यहाँ पात्रों को कुरेदकर व उँगली के छोर के दबाव से अलंकरण किया जाता है। कुचाई स्थल से अर्थव्यवस्था तथा आवासीय प्रवृत्तियों के कोई भी प्रमाण प्राप्त नहीं हुए हैं परंतु पास के वैद्यपुर स्थल से कृषित धान के प्रमाण प्राप्त हुए हैं जिसके आधार पर इस क्षेत्र में नव-प्रस्तरकाल में विकसित कृषि करने का अनुमान होता है। मृद्भाण्डों के आधार पर कुचाई का नव-प्रस्तरकालीन चरण ई. पू लगभग 1200 से 800 के मध्य रखा जा सकता है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कुचाई&oldid=610386" से लिया गया