मार्गशीर्ष  

मार्गशीर्ष
राम, लक्ष्मण और सीता
विवरण मार्गशीर्ष हिन्दू पंचांग के अनुसार वर्ष का नौवाँ माह है। इस माह को अगहन भी कहा जाता है।
अंग्रेज़ी नवम्बर-दिसम्बर
हिजरी माह मुहर्रम - सफ़र
व्रत एवं त्योहार विहार पंचमी, मोक्षदा एकादशी, कालाष्टमी
जयंती एवं मेले अन्नपूर्णा जयन्ती
पिछला कार्तिक
अगला पौष
विशेष सत युग में देवों ने मार्गशीर्ष मास की प्रथम तिथि को ही वर्ष प्रारम्भ किया।
अन्य जानकारी मार्गशीर्ष शुक्ल पंचमी अर्थात विहार पंचमी के दिन ही त्रेता युग में सीता-राम का विवाह हुआ था। मिथिलाचंल और अयोध्या में यह तिथि 'विवाह पंचमी' के नाम से प्रसिद्ध है।

मार्गशीर्ष हिन्दू पंचांग के अनुसार वर्ष का नौवाँ माह है। इस माह को 'अगहन' भी कहा जाता है। मार्गशीर्ष का सम्पूर्ण मास अत्यन्त पवित्र माना जाता है। मास भर प्रात:काल भजन मण्डलियाँ भजन तथा कीर्तन करती हुई निकलती हैं। 'गीता'[1] में स्वयं भगवान कृष्ण ने कहा है- मासानां मार्गशीर्षोऽयम्सत युग में देवों ने मार्गशीर्ष मास की प्रथम तिथि को ही वर्ष प्रारम्भ किया था। इसी मास में कश्यप ऋषि ने सुन्दर कश्मीर प्रदेश की रचना की थी। इसलिए इसी मास में महोत्सवों का आयोजन होना चाहिए।

नामकरण

अगहन मास को मार्गशीर्ष नाम से क्यों जानते हैं? इस मास को मार्गशीर्ष कहने के पीछे भी कई तर्क हैं। भगवान श्रीकृष्ण की पूजा अनेक स्वरूपों में व अनेक नामों से की जाती है। इन्हीं स्वरूपों में से एक मार्गशीर्ष भी श्रीकृष्ण का ही एक रूप है। शास्त्रों में कहा गया है कि इस माह का संबंध मृगशिरा नक्षत्र से है। ज्योतिष के अनुसार नक्षत्र 27 होते हैं जिसमें से एक है मृगशिरा। इस माह की पूर्णिमा मृगशिरा नक्षत्र से युक्त होती है। इसी वजह से इस मास को मार्गशीर्ष मास के नाम से जाना जाता है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. गीता (10.35
  2. अगहन मास को मार्गशीर्ष क्यों कहते हैं (हिंदी) webdunia.com। अभिगमन तिथि: 18 नवम्बर, 2017।
  3. अनुशासन, अध्याय 10-, बृ. सं. 104.14-16
  4. कृत्यकल्पतरु का नैत्य कालिक काण्ड, 432-33; कृत्यरत्नाकर, 471-72
  5. अगहन मास सर्वोत्तम है, जानिए इस माह की 10 पवित्र विशेषताएं (हिंदी) webdunia.com। अभिगमन तिथि: 18 नवम्बर, 2017।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मार्गशीर्ष&oldid=614039" से लिया गया