शालिहुंडम  

शालिहुंडम श्रीकाकुलम ज़िला, आंध्र प्रदेश का एक ग्राम। यह वंशधारा नदी के दक्षिण तट पर कलिंगपटनम् के निकट स्थित है।[1]

  • इस स्थान से प्रथम या द्वितीय शती ई. में निर्मित एक सुन्दर बौद्ध स्तूप के अवशेष प्राप्त हुए थे। स्तूप की खोज राममूर्ति पंतलू महोदय ने 1919 ई. में की थी।
  • इसके पश्चात् लांगहर्स्ट ने 1920-1921 ई. में पुरातत्व विभाग की ओर से यहां नियमित उत्खनन कार्य किया।
  • यहाँ का स्तूप भूमि तल से 400 फुट ऊचा है। इसके भीतर मौर्य सम्राट अशोक के काल का ब्राह्मी लिपि का एक अभिलेख मिला था।
  • स्तूप के निकट ही नीची पहाड़ी पर बौद्ध कालीन अवशेष प्राप्त हुए है। इनमें मुख्यता महायान संप्रदाय से संबद्ध बोधिसत्व की सुंदर मूर्तिंयां हैं। इनमें 'मंजुश्री' व 'अवलोकितेश्वर' की प्रतिमाएं उल्लेखनीय हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 895 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शालिहुंडम&oldid=501301" से लिया गया