Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
भरत (क़बीला) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

भरत (क़बीला)  

(भरत (कबीला) से पुनर्निर्देशित)


Disamb2.jpg भरत एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- भरत (बहुविकल्पी)

भरत अभिजात क्षत्रिय वर्ग का एक वेदकालीन कबीले का नाम है। ऋग्वेद तथा अन्य परवर्ती वैदिक साहित्य में भरत एक महत्त्वपूर्ण कुल का नाम है। ऋग्वेद के तीसरे और सातवें मण्डल में ये सुदास एवं त्रित्सु के साथ तथा छठे मण्डल में दिवोदास के साथ उल्लिखित हैं। इससे लगता है कि ये तीनों राजा भरतवंशी थे। परवर्ती साहित्य में भरत लोग प्रसिद्ध हैं।[1] अश्वमेध यज्ञ कर्त्ता के रूप में भरत दौष्यन्ति का वर्णन करता है।

शतानीक सामाजित

एक अन्य भरत शतानीक सामाजित का उल्लेख मिलता है, जिसने अश्वमेध यज्ञ किया।[2] भरत दौष्यन्ति को दीर्घतमा मामतेय एवं शतानीक को सोमशुष्मा वाजप्यायन द्वारा अभिषिक्त किया गया वर्णन करता है। भरतों की भौगोलिक सीमा का पता उनकी काशीविजय तथा यमुना और गंगा तट पर यज्ञ करने से चलता है। महाभारत में कुरूओं को भरतकुल का कहा गया है। इससे ज्ञात होता है कि ब्राह्मणकाल में भरत लोग कुरू-पंचाल जाति में मिल गये थे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. शतपथ ब्राह्मण (13.5.4
  2. ऐतरेय ब्राह्मण (8.23,21
  3. पंचविंश ब्राह्मण (14.3,12;15.5,24
  4. ऋग्वेद (2.7.1,5; 4.25.4;5.16,19; तैत्तिरीय संहिता 2,5,9,1; शतपथ ब्राह्मण 1.4,2,2
  5. ­ऋचाओं 1.22,10; 1.42,9; 1.88,8; 2.1,11; 3,8;3.4,8 आदि
  6. हिन्दू धर्मकोश पेज नं-469
और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=भरत_(क़बीला)&oldid=189116" से लिया गया