तवांग मठ  

तवांग मठ
तवांग मठ
विवरण 'तवांग मठ' बौद्ध धर्म के अनुयायियों का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यह भारत का सबसे बड़ा और एशिया का दूसरा सबसे बड़ा मठ है।
राज्य अरुणाचल प्रदेश
ज़िला तवांग
निर्माता मेराक लामा लोड्रे ग्यात्सो
निर्माण काल 1680-81 ई.
भौगोलिक स्थिति समुद्र तल से 10 हज़ार फीट की ऊंचाई पर।
मार्ग स्थिति तवांग ज़िले के बोमडिला से 180 कि.मी. दूर।
प्रसिद्धि पहाड़ी बौद्ध पर्यटन स्थल
हवाई अड्डा तेज़पुर हवाई अड्डा
रेलवे स्टेशन रंगपारा
संबंधित लेख अरुणाचल प्रदेश, बौद्ध धर्म, बौद्ध धार्मिक स्थल, बौद्ध दर्शन
अन्य जानकारी मठ का मुख्य आकर्षण यहां स्थित भगवान बुद्ध की 28 फीट ऊंची प्रतिमा और प्रभावशाली तीन तल्ला सदन है। मठ में एक विशाल पुस्तकालय भी है, जिसमें प्रचीन पुस्तक और पांडुलिपियों का बेहतरीन संकलन है। माना जाता है कि ये पांडुलिपि 17वीं शताब्दी की हैं।

तवांग मठ (अंग्रेज़ी: Tawang Monestary) भारत के अरुणाचल प्रदेश राज्य में स्थित प्रसिद्ध बौद्ध मठ है। यह मठ भारत का सबसे बड़ा बौद्ध मठ है। ल्हासा के पोताला महल के बाद यह विश्व का दूसरा सबसे बड़ा मठ है। तवांग मठ तवांग नदी की घाटी में तवांग कस्बे के निकट स्थित है। तवांग ज़िले के बोमडिला से यह मठ 180 कि.मी. दूर है। समुद्र तल से 10 हज़ार फीट की ऊंचाई पर एक पहाड़ पर स्थित इस मठ को 'गालडेन नमग्याल लहात्से' के नाम से भी जाना जाता है।

स्थापना तथा सौंदर्य

तवांग अरुणाचल प्रदेश की उत्तर-पश्चिम दिशा में स्थित है। यहाँ के मठ का निर्माण मेराक लामा लोड्रे ग्यात्सो ने 1680-81 ई. में कराया और इसका नामकरण किया। यहां पर मोनपा जाति के आदिवासी पत्थर और बाँस के बने घरों में रहते हैं। यहां पर पैदल घूमने का एक अलग ही आंनद है। यहां आकार पर्यटक अपने आपको प्राकृतिक की गोद में पाएंगे। तवांग हिमालय की तराई में समुद्र तल से 3500 मीटर की ऊंचाई पर है। ये प्राकृतिक रूप से बहुत खूबसूरत है। पर्यटक यहां पर खूबसूरत चोटियां, छोटे-छोटे गांव, शानदार गोनपा और शांत झील के अतिरिक्त इतिहास, धर्म और पौराणिक कथाओं का सम्मिश्रण भी देख सकते हैं। प्राकृतिक खूबसूरती के अलावा पर्यटक यहां पर अनेक बौद्ध मठ भी देख सकते हैं। ये मठ दुनिया भर में बहुत प्रसिद्ध हैं। पहाड़ी पर बने होने के कारण तवांग मठ से पूरी तवांग घाटी के खूबसूरत दृश्य देखे जा सकते हैं। तवांग मठ दूर से क़िले जैसा दिखाई देता है। पूरे देश में ये एक प्रकार का अकेला बौद्ध मठ है। ये मठ एशिया का सबसे बडा बौद्ध मठ है। यहां पर 700 बौद्ध भिक्षु ठहर सकते हैं। तवांग मठ के पास बहुत सुंदर जलधारा बहती है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=तवांग_मठ&oldid=589556" से लिया गया